No icon

पति देता था मरीजों को दवा, घर में पत्नी छापती थी नकली नोट

500, 200 और 100 के नोट छपा करते थे यह लोग

प्रखर ब‍िहार। बिहार के भोजपुर में एक झोलाछाप डॉक्टर  और उसकी पत्नी सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है।  बताया जा रहा है कि  झोलाछाप डॉक्टर बाहर मरीजों को दवा देता था पत्नी घर के अंदर  नकली नोट छापा करती थी  और यह सिलसिला काफी दिनों से चल रहा था।   बताया जा रहा है कि भोजपुर में एक घर में जाली नोट छापते एक ही परिवार के 5 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया हैं। जानकारी के अनुसार पकड़े गए लोगों में एक झोलाछाप डॉक्टर नागेंद्र सिंह भी है। गिरफ्तार नागेन्द्र यादव झोला छाप डॉक्टर है। झोलाछाप डॉक्टर अपने गांव के चट्टी बाजार पर एलोपैथिक दवा की दुकान खोलकर मरीजों का इलाज करता है, जबकि उसकी पत्नी देवंती घर में नकली नोट छापती थी। पकड़े गए अपराधी नकली नोट को 70-  30 के अनुपात में नकली नोटों की डील किया करते थे। मामले में पूरे गैंग का संचालन पिंटू सिंह और आरा जेल में बंद नागेंद्र स‍िंह का बेटा राहुल सिंह कर रहा था। बतादे कि राहुल सिंह इस धंधे में किसी और को शामिल नहीं कर रहा था। उसे पहले से ही पता था कि बात लीक होने पर वह नहीं बच पाएगा। पहले पिंटू एवं राहुल में सौदा तय हुआ था। इसके बाद पिंटू ने मटेरियल और प्रिंटर उपलब्ध कराया। बताया जा रहा है कि पिंटू सिंह को 70 प्रतिशत और छापने वाले को 30 प्रतिशत पैसा मिलता था। पता चला है कि अब तक लगभग 5 लाख रुपये तक धंधेबाज सप्लाई भी दे चुके हैं। बृहस्पतिवार की रात उन्होंने पिंटू सिंह को आरा में 30 हजार रुपया सप्लाई भी दी थी।ननोट छपाई में शामिल पटना के पिंटू सिंह को 60 हजार रुपए की सप्लाई देनी अभी बाकी थी। इसके लिए लगभग 32 हजार रुपये की छपाई की जा चुकी थी। पुलिस छापेमारी के समय नागेंद्र सिंह के घर से 33 हजार रुपये के नकली नोट भी जब्त क‍िए गये है। जिसमें 30 हजार रुपये के जाली नोट तथा तीन हजार रुपए के असली नोट थे। लूटकांड मामले में आरा जेल में बंद बेटे राहुल सिंह की शह पर पूरा परिवार व उसके दोस्त नोट छपाई करने में व्यस्त थे। बतादे कि बुधवार देर रात को पुल‍िस ने जाली नोट छापते नागेंद्र सिंह, पत्नी देवंती देवी, राहुल की पत्नी नेहा देवी एवं भाभी के साथ जेल से 5 दिन पहले छूटे दोस्त को गिरफ्तार कर लिया। छापेमारी के वक्त सभी मिलकर रात में 500,100, 200 रुपए का नोट छापने में लगे हुए थे। पुलिस इन पर सरकारी नोट छापने के आरोप में विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया है।

Comment