No icon

हमारे बिना गठबंधन पूर्ण नहीं होगा- शिवपाल यादव

प्रखर लखनऊ। भले ही समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती ने गठबंधन करते हुए अपनी अपनी सीटें बांट ली हों और अजीत सिंह को 3 सीट का लॉलीपॉप पकड़ा कर काग्रेस के लिए दो जगह से चुनाव लड़ने से मना कर दिया हो । लेकिन समाजवादी पार्टी के संस्थापकों में से एक और वर्तमान में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव ने भतीजे अखिलेश यादव से तल्खी के बीच यह संकेत दिया है कि उनके बिना गठबंधन पूर्ण नहीं हो पाएगा । ऐसे में माना जा रहा है कि शिवपाल यादव भी चुनाव आते-आते सपा बसपा गठबंधन में शामिल हो सकते हैं । वहीं दूसरी तरफ मायावती ने शिवपाल यादव पर तंज कसते हुए कहा है कि शिवपाल यादव की पार्टी के ऊपर बीजेपी पानी की तरह पैसा बहा रही है।  बता दें कि पहले खबर आ रही थी कि कांग्रेस शिवपाल यादव के साथ गठबंधन करके चुनावी मैदान में उतर सकती है। लेकिन सपा बसपा के मेल के बाद परिस्थितियां बदल दी गई हैं। और उत्तर प्रदेश में एक नए गठबंधन के समीकरण तेजी से उभर रहे हैं ।माना जा रहा है कि अखिलेश और मायावती के फार्मूले को अजीत सिंह भी नकार सकते हैं ऐसे में शिवपाल ,अजित कांग्रेस एक गठबंधन का स्वरूप ले सकते हैं। बतादें कि प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के प्रमुख शिवपाल यादव ने बसपा-सपा गठबंधन पर बोलते हुए कहा कि , “यह गठबंधन प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के बिना अधूरा है। सिर्फ एक सेक्युलर फ्रंट ही भाजपा को पटखनी दे सकता है।शिवपाल यादव के इस बयान से अनुमान लगाया जा सकता है कि वे अपने भतीजे अखिलेश से मेल बढ़ाना चाहते हैं।  मायावती के बयान पर पटवार करते हुए बीजेपी ने पलटवार करते हुए कहा कि  सबको पता है कि पैसा का कल्चर कहां चलता है।

Comment