चीन में कोरोना वायरस से 17 की मौत, भारत समेत पूरी दुनियां अलर्ट पर

– रहस्यमय वायरस से हो रही मौतों से चीन में हाहाकार

– चीन में 700 से ज्यादा भारतीय छात्र कर रहे पढ़ाई

प्रखर दिल्ली/ एजेंसी। चीन में रहस्यमयी कोरोना वायरस से अब तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है। बता दें कि इन रहस्यमई मौतों के कारण चीन में हाहाकार मचा हुआ है। तेजी से फैलने वाले इस वायरस को रोकने के लिए चीन के वुहान शहर में ऐतिहातन सार्वजनिक परिवहन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके साथ ही वहां के सभी लोगों को मास्क लगाने की सलाह दी गई है।
एजेंसियों की खबर के अनुसार वहां के नागरिकों से कहा गया है कि यदि बहुत जरूरी ना हो तो शहर ना छोड़े बता दें कि इस शहर में करीब एक करोड़ से ज्यादा लोग रहते हैं। वायरस फैलने की खबर के बाद पूरे चीन में अफरा-तफरी का माहौल है एजेंसियों से मिल रही जानकारी के अनुसार सरकारी अधिकारियों ने आदेश जारी करते हुए वुहान से जाने वाली सारे फ्लाइट, बसें और ट्रेन की सर्विस पर रोक लगा दी है। गौरतलब है कि एक हफ्ते के अंदर चीन से लाखों लोग नया साल मनाने के लिए बाहर जाने की तैयारी में है। लिहाजा आवाम के बीच घबराहट और बेचैनी बढ़ी हुई है। मिल रही जानकारी के अनुसार चीन के वुहान शहर में ही सार्स संक्रमण के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। चीन में फैली इस संक्रामक बीमारी के मद्देनजर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आपात बैठक बुलाकर इस पर चिंता जाहिर की है। इसके साथ ही विश्व के तमाम देशों को एडवाइजरी जारी करते हुए आवश्यक निर्देश भी दिए गए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की इंमजेंसी मीटिंग बताया गया कि चीन के वुहान शहर में सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (सार्स) जैसे नए विषाणु की चपेट में आने से अब तक 17 लोगों की मौत हो गई है और देश में इसके करीब 571 मामले सामने आ चुके हैं। इसके अलावा इस बैठक में निर्णय लिया गया कि इस संक्रमण को अंतरराष्ट्रीय चिंता वाली जन स्वास्थ्य आपदा घोषित करने पर विचार किया जा रहा है, जैसा कि स्वाइन फ्लू और इबोला के समय किया था। डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडनॉम गेबेरियस ने कहा कि चीन इसे रोकने के लिए बेहद बड़े कदम उठा रहा है ताकि इस विषाणु को दुनियाभर में फैलने से रोका जा सके। सार्स के फैलने की खबर के बाद दुनिया भर के देशों ने अपने नागरिकों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचने की सलाह दी है। बता दें कि चीन में इस समय हजारों की संख्या में भारतीय भी मौजूद हैं। बतादें कि वुहान शहर में बड़ी संख्या में भारतीय छात्र हालात पर बेचैनी के साथ नजर रखे हुए हैं। यहां करीब 700 भारतीय रहते हैं जिनमें अधिकतर छात्र हैं। वुहान में ही करीब 500 भारतीय मेडिकल छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। बता दें कि सार्स एक संक्रामक बीमारी है जो हवा के साथ तेजी से फैल रही है । लिहाजा चीन सरकार ने वुहान से आने जाने वाले परिवहन के संसाधनों को रोकने के अलावा हुए इस संक्रमण से निपटने के तमाम उपाय शुरू कर दिए हैं।