ग़ाज़ीपुर- जनपद में कोई भी गरीब मजदूर भूखा ना रहे, इसके लिए प्रतिदिन खाद्य सामग्री का होता रहेगा वितरण- जिलाधिकारी

प्रखर ब्यूरो ग़ाज़ीपुर। लॉक डाउन का आज पॉचवा दिन है, ऐसे में अगर सबसे ज्यादा दिक्कत है तो वो है रोज कमाने व खाने वाले दिहाड़ी मजदूरों को है। कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के उद्देश्य से देश में हाई अलर्ट जारी है। प्रधानमंत्री की अपील पर पूरे देश मे 21 दिन के लिए लॉक डाउन किया गया है। लॉक डाउन का मतलब व्यक्ति अपने-अपने घरों मे ही रहे, जो जहां है वही रहेगा, किसी को कहीं भी आने जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी, जिससे कोरोना वायरस (कोविड -19) की बढ़ती समस्या से निपटा जा सके। लॉक डाउन की स्थिति मे उन लोगों को किसी भी प्रकार की समस्या ना हो जो रोज कमाते हैं और खाते है। इसके लिए भी शासन द्वारा पूरी व्यवस्था कर ली गई है कि कोई भी गरीब, मजदूर भूखा ना रहे। इस हेतु रविवार को जिलाधिकारी ओमप्रकाश आर्य, मुख्य विकास अधिकारी श्री प्रकाश गुप्ता, उप जिलाधिकारी सदर प्रभाष कुमार ने सदर विकास खण्ड के ग्राम चक खाजगी में 10 परिवारो को एंव ग्राम अगस्ता में 19 गरीब परिवारो निःशुल्क 15 दिनों का खाद्य सामग्री उपलब्ध कराया। जिलाधिकारी ओम प्रकाश आर्य ने कहा कि जनपद में कोई भी गरीब मजदूर भूखा ना रहे इसके लिए प्रतिदिन खाद्य सामग्री का वितरण किया जा रहा है। पूरे जनपद में ऐसे लोगों को चिन्हित किया गया है, जो रोज कमाते हैं रोज खाते है, जिनकी संख्या लगभग 5461 है। ऐसे परिवारों को प्रतिदिन राहत सामग्री उपलब्ध करायी जा रही है। जिलाधिकारी ने लोगो अपील भी किया कि वो एक दूसरे से दूरी बनाकर रहे, अपने-अपने घरो मे रहे, बाहर ना जाए। आज तहसील सदर क्षेत्र के ग्राम चक खाजगी एवं ग्राम अगस्ता में जिलाधिकारी द्वारा 15 दिनो की खाद्य सामग्री वितरित किया गया, जिसमें 10 किलो आटा, 10 किलो चावल, पॉच किलो आलू, एक किलो चीनी, एक किलो नमक, दो किलो दाल, 100 ग्राम मसाला, 100 ग्राम हल्दी का वितरण कर घरों में ही रहने की अपील की गई।