ग़ाज़ीपुर- तू रहे भूखा तो हमसे भी न खाया जाये- सिस्टर अल्फोंसा

प्रखर ब्यूरो गाजीपुर। जनपद मुख्यालय स्थित लूर्दस कान्वेंट बालिका इण्टर कालेज की प्रधानाचार्य सिस्टर अल्फोंसा ने अपने विद्यालय की तरफ से लाक डाउन में गरीब, असहाय, बेबस एवं जरूरतमंदों के लिए आगे बढकर बहुत ही सराहनीय कार्य किया है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए लगाये गये लाक डाउन में सिस्टर अल्फोंसा इस समय बिल्कुल मदर टेरेसा की भुमिका में नजर आ रही है। उन्होने प्रसिद्ध रचनाकार गीतकार स्व. नीरज की इन पंक्तियों को इस समय चरितार्थ कर दिया है। “तेरे दुख दर्द का मुझ पर हो असर कुछ ऐसा। तु रहे भूखा तो मुझसे भी न खाया जाये।” सिस्टर अल्फोंसा के द्वारा लूर्दस कान्वेन्ट बालिका विद्यालय गाजीपुर में लोगों के लिए राहत सामग्री के रूप में जो पैकैट तैयार कराया है उसमें प्रत्येक पैकैट में 10 किलो आटा, 10 किलो चावल, 2 किलो दाल, 2 किलो चना, 2 किलो मटर, 2लीटर तेल, 1किलो नमक, 1 किलो चीनी, सर्फ 1किलो, 5 साबुन, चाय 100 ग्राम आदि सामग्री है। सिस्टर अल्फोंसा के निर्देशन में इस राहत सामग्री का वितरण किया जा रहा है। उन्होंने कहा की हम लोग अपने सामर्थ्य के अनुसार इस कार्य में लगे हैं। नर सेवा ही नारायण सेवा है। अगर हम लोगों के प्रयास से लाक डाउन में अगर कुछ बेबस, लाचार, असहाय, गरीब परिवार के लोगों के चेहरे पर भूख की बजाय मुस्कान सन्तुष्टि एवं प्रशन्नता ला पाये तो हम सभी के लिए इससे बडी खुशी एवं ईबादत और नहीं होगी। सिस्टर अल्फोंसा ने कहा की मेरी जनपदवासियों से अपील है की आप अपने आस पास के लोगों का लाक डाउन की इस अवधि में विशेष रूप से ध्यान रखे। कोई भी परिवार इस काल में भूखा न रहे। शासन के द्वारा सराहनीय प्रयास किया जा रहा है, परन्तु हम सभी का भी यह नैतिक दायित्व एवं कर्तव्य बनता है की इस बुरे समय में संयम और धैर्य का उदाहरण प्रस्तुत करते हुवे बसुधैव कुटुम्बकम को आत्मसात करते हुवे एक दूसरे की सहायता करनी है। उन्होंने जिला प्रशासन के द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना करते हुवे स्वयंसेवी संस्थाओं के द्वारा किये जा रहे सुन्दर प्रयास के लिए भी आभार व्यक्त किया है।