ग़ाज़ीपुर- “वर्क फ्रॉम होम” के तहत महिला पीजी कॉलेज की छात्राएं लोगों को कर रही कोरोना से जागरूक

प्रखर ब्यूरो गाजीपुर। कोरोना महामारी के संकट से निबटने के लिए एक प्रमुख उपाय के रूप में घोषित टोटल लॉक डाउन के लागू हुए 1 माह पूर्ण हो चुके हैं। सभी गतिविधियां ठप हो चुकी है। ऐसे माहौल में राजकीय महिला पीजी कॉलेज की प्रज्ञा रेंजर टीम अपने प्राचार्य प्रोफेसर डॉ. सविता भारद्वाज के नेतृत्व एवं रेंजर प्रभारी डॉ. शिव कुमार के मार्गदर्शन में लगातार ‘वर्क फ्रॉम होम’ के तहत लोगों को इस संकट के समय उत्पन्न माहौल से समायोजित एवं जागरूक करने के लिए सतत प्रयत्नशील है। लॉक डाउन की घोषणा के समय महाविद्यालय की वार्षिक परीक्षाएं चल रही थी तथा अचानक इस घोषणा के कारण लोगों में अपने स्वास्थ्य, सुरक्षा की चिंता के साथ-साथ अपने शैक्षिक भविष्य के प्रति भी अनिश्चितता उत्पन्न हो गई। ऐसे माहौल में छात्राओं और अभिभावकों की मानसिक चिंता को कम करने का प्रयास किया गया। उनमें स्वयं एवं समुदाय के प्रति सकारात्मक सोच विकसित करने का संदेश दिया गया। छात्राओं से अपील की गई कि वह इस बीमारी से बचाव के उपाय एवं स्वयं को सुरक्षित रखते हुए अपने आसपास के समुदाय के लोगों की सहायता करें। रेंजर छात्राओं ने आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने, शारिरिक दूरी का पालन करने, जनता कर्फ्यू में भागीदारी करने तथा विभिन्न प्रकार के वीडियो एवं अपीलों के माध्यम से लोगों को इस महामारी से निपटने हेतु संदेश दिया। छात्राओं ने अपने इस समय का सदुपयोग करते हुए गीत, कविता, लेख, वीडियो संदेश, चार्ट-पोस्टर, रंगोली आदि के माध्यम से जागरूकता अभियान में बढ़-चढ़कर भाग लिया तथा अपनी रचनात्मक क्षमता का प्रदर्शन किया। अफवाहों एवं झूठी खबरों से दूर रहने तथा ऐसी खबरों को समाज में फैलने से रोकने हेतु विभिन्न प्रयास किए। छात्राओं ने अपने स्तर से मास्क एवं सैनिटाइजर बनाकर अपने आसपास वितरित किया। अभिभावकों ने कोरोना से बचाव एवं सुरक्षा हेतु पत्र लिखकर अपील भी की। प्राचार्य डॉ. सविता भारद्वाज ने छात्राओं एवं अभिभावकों से अपील की है कि कोरोना महामारी का संकट बड़ा है तथा इसका समाधान सोशल डिस्टेंसिंग एवं घर में सुरक्षित रहने में ही है। लोगों को अब अपने जीवन शैली में बदलाव लाकर ऐसे माहौल में रहने की आदत विकसित करनी होगी। प्रज्ञा रेंजर प्रभारी डॉ. शिवकुमार ने छात्राओं से स्वयं एवं परिवार की सुरक्षा के साथ साथ समुदाय के प्रति अपनी जिम्मेदारी की याद दिलाते हुए उन्हें रेंजर के सूत्र वाक्य ‘सेवा करो एवं तत्पर रहो’ की भावना से कोरोना महामारी से लड़ने हेतु अपने-अपने स्तर से जरूरतमंदों की मदद करने की अपील की है तथा विश्वास व्यक्त किया है कि हम सभी मिलकर इस लड़ाई को अवश्य जीतेंगे।