ग़ाज़ीपुर- स्कूल प्रबंधक फीस जमा करने का बना रहे दबाव, लॉकडाउन के दौरान फीस वसूली पर है प्रतिबंध

प्रखर ब्यूरो गाजीपुर। पब्लिक एवं कान्वेंट स्कूलों की ओर से अभिभावकों को नोटिस भेजकर ऑनलाइन फीस जमा करने का दबाव बनाना शुरू कर दिया गया है। अभिभावकों का कहना है कि कोरोना वायरस जैसी फैली वैश्विक महामारी के चलते पूरे देश में लाक डाउन चल रहा है। सभी आफिस, फैक्ट्रियां, बाजार बंद है। काम- धंधे प्रभावित हुए पड़े हैं। ऐसे में परिवार का खर्च चलाना भी मुश्किल हो रहा है। ऐसे में विघालयों ने फीस के लिए अभिभावकों को नोटिस भेजना आरम्भ किया है, वह गलत है। कई स्कूलों ने मासिक शुल्क में बढ़ोतरी करने के साथ यूनीफार्म और किताबें भी बदल दी है। मीडिया से जुड़े पत्रकार राजीव कुमार सिंह, निरज कुमार राय, दिनेश्वर पंडित, रविंद्र तिवारी सहित सैकड़ों अभिभावकों ने जिलाधिकारी से कोरोना के संकट के समय पूरे देश में लॉकडाउन से परेशानी को देखते हुए फीस जमा करने के लिए और समय दिलाने की मांग की है। कोरोना महामारी को देखते हुए लागू किए गए लाकडाउन के कारण डेढ़ माह से जिले के सभी सरकारी और निजी विद्यालय बंद हैं। एक अप्रैल से चालू होने वाला नया शिक्षा सत्र भी शुुरू नहीं हो पाया। संकट की इस घड़ी में अभिभावकों को राहत देते हुए सरकार ने निजी विद्यालयों को निर्देश दिए थे कि स्कूल खुलने तक वह छात्रों से किसी भी प्रकार की फीस न लें, लेकिन जिला मुख्यालय पर संचालित कई नामी गिरामी निजी विद्यालय अविभावकों को मैसेज भेज कर उन पर स्कूल फीस जमा करने का दबाव बना रहे हैं। विद्यालयों की इस मनमानी के चलते आर्थिक संकट से जूझ रहे परिवार बच्चों की स्कूल फीस जमा करने में परेशान हो रहे है।