ग़ाज़ीपुर- लगातार प्रवासियों के जनपद में आने से बढ़ गया है कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा

प्रखर ब्यूरो बिरनो/गाजीपुर। गांव-गांव पहुंच रहे विभिन्न प्रांतों के प्रवासी कामगारों की जांच की कोई उचित व्यवस्था नहीं है। बोगना, रायपुर, बिरनो, बरही, बद्धोपुर, भड़सर, पांडेयपुर सहित दर्जनों गांवों में बंगाल, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात से वाहन रिजर्व कर सैकड़ों की संख्या में प्रवासी कामगार अपने-अपने गांव पहुंच गए हैं। प्रवासी कामगारों के लिए प्राथमिक विद्यालय में कोरेनटाइन सेंटर बनाया गया है, लेकिन वहां ग्राम निगरानी समिति और पुलिस बल न होने के कारण प्रवासी कामगारों के घर के लोगों का आना जाना लगा रह रहा है। वही कोरेनटाइन सेंटर से प्रवासी कामगार भी घर आ जा रहे है, जिससे गांवों में कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। साथ ही साथ बाहर से आये कामगार प्रवासी केवल थर्मल जांच के बाद अपने घर चले जा रहे है। गांव में अन्य प्रांतों से अपने निजी साधन से आये प्रवासी बिना जांच कराए ही अपने घर चले जा रहे है। इसके बाद थर्मल जांच के लिए स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जा रहे है। इसको लेकर ग्रामीणों में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर डर बना हुआ है। ग्रामीणों ने जिला प्रसासन से बाहर से आ रहे लोगों के साथ सख्ती से निपटने हुए इनकी कोरोना जांच कराने और इसको 14 दिन के लिए गांव के बाहर कोरेनटाइन करने की मांग की है।