ग़ाज़ीपुर- लाकडाउन से हुई व्यापारी बंधुओं की हालत दयनीय

प्रखर ब्यूरो जखनियां/ग़ाज़ीपुर। वैश्विक महामारी कोरोना बीमारी को लेकर जखनिया व्यापारी बंधुओं की हालत दयनीय होती जा रही है। चूक आए हुए प्रवासी मजदूरों द्वारा हो रही है और झेलना बार-बार जखनिया के व्यापारियों को हो रहा है। प्रशासन भी इस विषय को गंभीरता से नहीं ले रहा है और यथास्थिति को बिना समझे सोचे तुगलकी फरमान जारी कर दे रहा है, जिससे जखनिया के व्यापारी काफी दुखी और परेशान हैं। ज्ञात हो कि जब से लॉक डाउन चला जखनिया मार्केट लगातार बंद रही। बीच में कुछ गाइडलाइन भी आई दुकान खोलने के लिए तब भी किसी न किसी नियम कानून का हवाला देकर जखनिया का प्रशासन दुकानों को बंद कराए रखा। किसी तरह भाजपा के नेताओं ने भाजयुमो जिला उपाध्यक्ष प्रमोद वर्मा, मंडल अध्यक्ष उमाशंकर यादव, व्यापारियों के नेता अशोक गुप्ता से संपर्क करके प्रशासन से गुहार लगाया गया, तब जाकर 60 दिन बाद किसी तरह दुकान खुल ही पाई थी की जखनिया ग्राम सभा में के दो पूर्व में नए 2 प्रवासी कोरन टाइम किए गए हुए कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए और फिर से शासन के तत्काल आदेश से जखनिया की दुकानें बंद हो गई। जखनिया के व्यापारी बहुत ही चिंतित हैं और अपनी व्यथा भी नहीं कह पा रहे हैं। लगातार दुकान बंद होने से उनके सामने आर्थिक तंगी उत्पन्न हो गई है, खाने के लाले पड़ गए हैं, और प्रशासन से भी कोई सहयोग नहीं मिल रहा है। व्यापारियों का कहना है कि केंद्र सरकार भी गरीबों, असहायो की भरपूर मदद कर रही है, लेकिन जो व्यापारी सरकार को टैक्स दे रहा है, उसके लिए कोई आर्थिक सहायता नहीं दी जा रही है, आर्थिक पैकेज के नाम पर कर्ज दिया जा रहा है जिसका ब्याज सहित भुगतान करना है तो वह इस विषम परिस्थिति में दुकाने बंद रहेंगी तो भुगतान कैसे करेगा। इस पर भी सरकार को सोचना चाहिये। जहां तक कोरोना पॉजिटिव जो मरीज मिले हैं तो मेडिकल साइंस की गाइड लाइन है, की ढाई सौ मीटर से अधिक दूरी पर मार्केट हो उसको खोला जा सकता है। और यहां दूरी उनसे 500 मीटर से अधिक है। बाजार बंद करने का तुगलकी फरमान व्यापारियों के गले के नीचे नहीं उतर रहा है। और जखनिया के प्रमुख व्यापारी इस विषय को लेकर एक बार पुनः भाजयुमो जिला उपाध्यक्ष प्रमोद वर्मा मंडल अध्यक्ष उमाशंकर यादव व्यापारियों के नेता अशोक गुप्ता से संपर्क करके उनकी चिंता करने की बात कहीं। इस पर प्रमोद वर्मा ने कहा निश्चित रूप से इस विषय को लेकर पार्टी के शीर्ष अधिकारियों से और प्रशासन के लोगों से बातचीत की जाएगी। जो भारत सरकार की गाइडलाइन होगी और जिसमें लोगों की सुरक्षा का हित होगा उसके अनुसार निश्चित रूप से जखनिया बाजार की दुकानें खुलवाने का फैसला लिया जाएगा। आप निश्चिंत रहिए भाजपा की सरकार व्यापारियों के हित के लिए कार्य कर रही है। शीर्ष नेतृत्व और जिले का प्रशासन निश्चित रूप से आपके बारे में सोचेगा और उचित निर्णय लेगा। इस मौके पर दुर्गा प्रसाद, नंदू गुप्ता, संजीव त्रिपाठी, दल्लू राजभर, धर्मेंद्र चौरसिया, गणेश प्रसाद, विजय मद्धेशिया, बिंदु गुप्ता सहित प्रमुख लोग उपस्थित रहे।