ग़ाज़ीपुर- जिला कांग्रेस कमेटी और शहर कोंग्रेस कमेटी के सदस्यों ने राज्यपाल के नाम जिलाधिकारी को सौपा पत्रक

प्रखर ब्यूरो गाज़ीपुर। जिला कांग्रेस कमेटी और शहर कोंग्रेस कमेटी के सदस्यों ने महामहिम राज्यपाल के नाम से जिलाधिकारी के माध्यम से एक पत्रक दिया। उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों उत्तर प्रदेश में लगातार घोटालों की खबर आ रही है और सरकार है कि सिर्फ मौन बनकर तमाशा देख रही है। इस अवसर पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष सुनील राम ने कहा कि देश में युवाओं की बढ़ती बेरोजगारी के बावजूद शिक्षक भर्ती घोटाला, भाजपा सरकार की नाक के नीचे कई सारी भर्तियां लटकी हुई है। लाखों युवा प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर परीक्षाएं देते हैं और नौकरी लगने का इंतजार करते हैं। लेकिन सरकार की भ्रष्ट व्यवस्था के चलते भर्तियां कोर्ट में लटक जाती हैं या भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाती हैं। हाल ही में 69 हजार शिक्षक भर्ती, पशुपालन विभाग में व्यापक स्तर पर भ्रष्टाचार हुआ और भ्रष्टाचार में कई भाजपा के नेताओं का नाम भी आया, लेकिन भाजपा सरकार बड़े अधिकारियों और नेताओं को बचा रही है। इसी तरह इस सरकार ने अन्य तमाम भर्तियों को लटका रखा है। इस संबंध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कई मांग की, जिसमें प्रमुख रुप से घोटालों में लिप्त विभाग के मंत्रियों को तत्काल बर्खास्त किया जाए ताकि जांच प्रभावित ना हो सकें। घोटालों में लिप्त विभागों के मंत्रियों के प्रतिनिधि को तत्काल गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाए। पूरे प्रकरण की जांच उच्च न्यायालय के वर्तमान न्यायाधीश से करवाई जाए 69 हजार शिक्षक भर्ती घोटाले में ना सिर्फ बड़े पैमाने पर धांधली हुई है, बल्कि चयन प्रक्रिया में भी आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों के साथ नाइंसाफी हुई है, जो संविधान प्रदत्त अधिकारों का उल्लंघन है। इसको सुरक्षित रखने की गारंटी हो। प्रदेश में हुए अन्य घोटालों जैसे कि पीडीएस घोटाला, जूता मोजा घोटाला, डीएचएलएफ आदि घोटालों की अविलम्ब न्यायिक जांच की मांग राज्यपाल को प्रेषित पत्रक के माध्यम से की गई है। इस अवसर पर पत्रक देने वालों में प्रमुख रूप से पूर्व विधायक अमिताभ अनिल दुबे, शहर अध्यक्ष सुनील साहू, चंद्रिका सिंह, अखिलेश्वर प्रसाद सिंह, जनक कुशवाहा, राजीव कुमार सिंह, पंकज दुबे, अजय कुमार श्रीवास्तव, लाल साहब यादव, माधव कृष्ण, मनसूर मिसाल जैदी, शफीक अहमद, मनीष कुमार राय, उषा चतुर्वेदी, महबूब निशा, राकेश राय, अनुराग पांडे, रतन तिवारी, शशिभूषण राय, अवधेश साहू, नंदलाल पांडे, राघवेंद्र चतुर्वेदी आदि लोग उपस्थित रहे।