ग़ाज़ीपुर- मांगों के पूरा नहीं होने पर शिक्षणेत्तर कर्मी आक्रोशित, निदेशालय कार्यालय पर करेंगे धरना प्रदर्शन

प्रखर ब्यूरो गाजीपुर। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षणेत्तर संघ के प्रांतीय नेतृत्व के आह्वान पर आठ सूत्रीय मांगों को लेकर निदेशालय कार्यालय पर आयोजित होने वाले 28 जनवरी से दो दिवसीय धरना प्रदर्शन में जिले के शिक्षणेत्तर कर्मी भी भारी संख्या में शामिल होंगे।
जिला मंत्री राकेश कुमार पाण्डेय ने कहा कि कर्मचारियों की मांगों को सरकार द्वारा गंभीरता से नहीं लेने और उच्चाधिकारियों के उपेक्षा किए जाने पर शिक्षणेत्तर संघ अब आर-पार की लड़ाई लड़ने को तैयार हैं। इसी क्रम में निदेशालय कार्यालय प्रयागराज पर धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया है। इसके बाद भी शासन स्तर पर सुनवाई नहीं होती है तो 16 मार्च को लखनऊ में धरना दिया जाएगा। शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की मुख्य मांगों में राजकीय कर्मचारियों की भांति चिकित्सा सुविधा, पदोन्नति पर 22 बी का लाभ देने, कर्मचारियों की पदोन्नति में सीसीसी की बाध्यता समाप्त करने, पुरानी पेंशन की बहाली, शिक्षक पद पर पदोन्नति और 300 दिन उपार्जित अवकाश का नकदीकरण शामिल है। 28 जनवरी से दो दिवसीय धरना प्रदर्शन का आयोजन निदेशालय कार्यालय प्रयागराज में किया गया है। जिसमें सभी सदस्यों से अनुरोध किया गया कि समय से धरने में पहुंचने का कष्ट करें।
बैठक में लालबहादुर सिंह कुशवाहा, यज्ञेश कुमार, विशाल राय, अमित कुमार पांडे, परमेश यादव, मु. वारिस, राधेश्याम, बरमेश्वर यादव, राजेश कुमार पांडे, रामअवध यादव, संतोष कुमार सिंह यादव, शाहिद हुसैन अंसारी, ओंकार लाल, मंजेश राय, श्रवण कुमार, वंशराज सिंह कुशवाहा, राजेश श्रीवास्तव, कृष्णशंकर उपाधयाय, पवन श्रीवास्तव, रणजीत, अशवनी राय, जितेंद्र राय, संजय सिंह, मनीष सिंह, कैलाश नाथ सिंह, उमेश सिंह, कविलास राम, अमित कुमार सिंह, आनंद सिंह, संजय यादव, संजय राय, कृष्णानंद कुशवाहा, राजनारायण चौहान, मंगला प्रसाद चौबे, नितिन कुमार, उमेश सिंह, मोहम्मद आरिफ, रणजीत सिंह, छागुर, दिलिप चौबे आदि उपस्थित थे। बैठक की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष अरुण कुमार श्रीवास्तव ने किया।