ग़ाज़ीपुर- गीता भारद्वाज ने असिस्टेंट प्रोफेसर की परीक्षा में तीसरा रैंक हासिल कर गांव व जिले का नाम किया रोशन

प्रखर ब्यूरो दुल्लहपुर/गाजीपुर। क्षेत्र के रेहटी मालीपुर गांव के संजोगपुर निवासी गीता भारद्वाज के असिस्टेंट प्रोफेसर होने पर ग्राम प्रधान रीता कुशवाह ने  स्मृति चिन्ह, शाल व फूल माला पहनाकर स्वागत किया। संजोगपुर गांव निवासी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता स्वर्गीय रामवृक्ष भारद्वाज की छोटी पुत्री गीता भारद्वाज इलाहाबाद में असिस्टेंट प्रोफेसर की परीक्षा में तीसरा रैंक हासिल कर गांव जिले का नाम रोशन किया। हाईस्कूल और इंटर की परीक्षा गांव के जय मां दुर्गा इंटर कॉलेज से तथा बीए और एमए की परीक्षा संत बुला पीजी  अमारी कॉलेज तथा इलाहाबाद में नेट जेआरएफ की तैयारी में लगी रही। काफी मेहनत के बाद असिस्टेंट प्रोफेसर की परीक्षा में छात्राओं में तीसरा रैंक हासिल कर गांव का नाम रोशन किया। गीता भारद्वाज ने कहा कि पढ़ाई के चलते आर्थिक स्थिति काफी कमजोर थी, किसी तरह परिजनों ने मेहनत मजदूरी करके गीता को पढ़ाने में लगे रहे। इसके अलावा सबसे बड़ा त्याग गीता भारद्वाज की 34 वर्ष की उम्र में शादी छोड़कर अपने लक्ष में लगे रही और इलाहाबाद में रहकर छोटे बच्चों को कोचिंग करा कर किसी तरह पैसे जुटाकर पढ़ाई करती थी। आखिर मेहनत और लगन रंग लाई, जिसके चलते ग्राम प्रधान गीता कुशवाहा सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने मिठाई व माला पहनाकर व स्मृति चिन्ह साल भेंट करके उनके हौसले को बढ़ाया।
इस मौके पर आनंद यादव, जूठन कुशवाहा, विमल प्रजापति, प्रबंधक सुनील सिंह, सत्यदेव कुशवाहा, कालिका पांडे, पंचदेव कुशवाहा, लक्ष्मण कुशवाहा, राजू कुशवाहा, कमला राजभर, अंगद कुशवाहा, पप्पू यादव, उर्मिला देवी, रविप्रकाश शर्मा, भानु राजभर, श्यामसुंदर कुशवाहा, श्रीधर कुशवाहा, नितेंद्र कुशवाहा, श्यामसुंदर कुशवाहा, राम पुकार कुशवाहा, प्रदुम कुशवाहा सहित काफी लोग उपस्थित रहे।