ग़ाज़ीपुर- मड़ई में सो रहे दिव्यांग बुजुर्ग की जिन्दा जलकर हुई दर्दनाक मौत

प्रखर ब्यूरो शादियाबाद/ग़ाज़ीपुर। स्थानीय थाना क्षेत्र के लखमनपुर डिहवां गांव में गुरुवार की रात मड़ई में सो रहे 75 वषिॅय एक पैर के दिव्यांग बुजुर्ग दधिबल राजभर पुत्र सोमारु राजभर की जिन्दा जलकर दर्दनाक मृत्यु हो गई। आग इतनी भयानक थी कि उनका पुरा शरीर जलकर राख हो गया और घर वालो या आसपास के लोगो को भनक तक नही लगी। परिवार वालो के अनुसार रोज की तरह गुरुवार की रात दधिबल राजभर खाना खाने के बाद मड़ई में सो रहे थे। वह एक पैर से विकलांग थे, चलने फिरने के लिए पैर में लकड़ी की खपचारी बांधते थे। भोर में जब घर की महिलायें घर से बाहर निकली तो आग देखकर शोर मचाना शुरू किया। शोर सुनकर ग्रामिणो की भारी भीड़ एकठ्ठा हो गई। लोग आग बुझाने लगे और हर तरफ दधिबल राजभर की तलाश करने लगे पर उनका कहीं कोई पता नही चला। उजाला होने पर आग के ढेर में सर और सिने के अंश दिखाई दिये। सुचना पर पहुंची पुलिस लाश के बचे हुए अंश थाने ले आई। आग किन कारणो से लगी इसका पता नही चल पाया है। लोगो का अनुमान है कि रात में ठंड से बचने के लिए उन्होंने अलाव जलाया होगा, जिसकी चिंगारी से आग लगी होगी। मृतक के दो पुत्र है जो मुंबई में रहते है। परिवार वालो का रो रोकर बुरा हाल है। पत्नी बासमती देवी पुत्री गिरजा देवी बार बार अचेत हो जा रही थी।