ग़ाज़ीपुर- नालियों पर अतिक्रमण के चलते बदहाल और जर्जर हुई सड़क बनी राहगीरों की दुश्वारियों का कारण

प्रखर ब्यूरो भीमापार/ग़ाज़ीपुर। स्थानीय बाजार से माहपुर रेलवे स्टेशन की तरफ जाने वाली सड़क पूरी तरह से जर्जर हो चुकी है, जिसके चलते आये दिन राहगीरों का गिरकर घायल होना आम बात हो गई है। भीमापार बाजार से माहपुर जाने वाली सड़क पर करीब एक किलोमीटर तक लोगों के घरों का गन्दा पानी भरा रहता है। सड़क के किनारे बनायी गयी पानी निकासी की नाली पर लोगों के द्वारा अतिक्रमण किए जाने के चलते वर्तमान में नाली का अस्तित्व ही समाप्त हो गया है। नाली पट जाने के चलते अब लोगों के घरों का गन्दा पानी सड़कों पर बहने लगा है, जिससे होकर लोगों को गुजरना पड़ रहा है। वहीं सड़क पूरी तरह से छतिग्रस्त होने के चलते लोग आये दिन लोग इसी मे गिरकर चोटिल भी हो जाते हैं।सड़क की स्थिति का आलम यह है कि इस मार्ग पर कोई अजनबी राहगीर अगर भूलवस इधर से गुजर जाये तो वह फिर दोबारा इधर आने मे पनाह मान लेता है। सड़क के बीच में जगह जगह गढ्ढे होने से यह मालूम नहीं पड़ता कि सड़क मे गढ्ढा है या गढ्ढे मे सड़क। स्थानीय लोगों के द्वारा नाली के उपर पक्की सीड़ी के साथ ही चबूतरें का निर्माण करके नाली को पूरी तरह से पाट दिया है, स्थिति यह है कि जिनकी दुकानें या घर नीचें हैं उनकी दुकानों और घरों में गन्दा पानी घुसने लगा है। ऐसे में न सिर्फ संक्रामक बीमारियों के फैलने का खतरा बना हुआ है वहीं लोगों का दुर्गंध के चलते जीना दुश्वार हो गया है। वंही शासन का आदेश है कि सड़कों के किनारे की पटरियों को खाली कराया जाय। इस बावत लोगों ने तहसील दिवस से लेकर जिले के आला अधिकारियों से शिकायत भी की है लेकिन प्रशासन की अनदेखी के चलते आज तक यह मार्ग अतिक्रमण मुक्त नहीं हो सका। आक्रोशित ग्रामीणों ने तत्काल अतिक्रमण को हटवाने की मांग की है।