ग़ाज़ीपुर- सात दिवसीय श्री रूद्र महायज्ञ का विशाल भंडारे का साथ हुआ समापन

प्रखर ब्यूरो मरदह/ग़ाज़ीपुर। सिद्धपीठ हथियाराम के पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनन्दन यतिजी महाराज के पावन सानिध्य में महाहर धाम में महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य में आयोजित 250 वर्ष से चली आ रही सात दिवसीय परम्परागत श्री रूद्र महायज्ञ का आज भण्डारे के साथ समापन किया गया। धार्मिक अनुष्ठान वैदिक मंत्रोच्चार के बीच हवन-पूजन हुआ। असंख्य वैदिक मंत्रोच्चार के बीच विधिवत शुरू की गयी। महानिशा के चारो प्रहर पूजन कर जन कल्याण की कामना की जाएगी। स्वामी भवानीनन्दन यतिजी महाराज ने कहा कि भगवान शिव के निराकार से साकार रूप में अवतरण की रात्रि ही शिवरात्रि है। देवाधिदेव हमें काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि विकारों से मुक्त करके परम सुख, शांति एवमं ऐश्वर्य प्रदान करते हैं। उन्होंने कहा कि अपने जीवन में सुख-दु:ख, शांति एवं समृद्धि की कामना करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को शिवरात्रि का व्रत एवं रात्रि में भगवान अशुतोष का चार प्रहर की विधिवत पूजा एवं रात्रि जागरण करना चाहिए। भगवान आशुतोष अत्यंत शीघ्र ही प्रसन्न होने वाले देवता हैं। उन्होंने कहा कि शिवरात्रि आध्यात्मिक पथ पर चलने वाले साधकों के लिए बहुत महत्व रखती है। कहा कि यौगिक परंपरा में शिव को किसी देवता की तरह नहीं पूजा जाता बल्कि उन्हें आदि गुरु माना जाता है। प्रवचन के माध्यम से महामण्डलेश्वर स्वामी भवानी नन्दन ने यज्ञ की महत्ता एवं उपयोगिता को प्रतिपादित करते हुए कहा कि यज्ञ सर्वषेठ कर्म है। यज्ञ से जल की वर्षा होती है और वर्षा के जल से अन्न की उत्तपत्ति होती है। अन्न की शक्ति से प्राणी उत्पन्न होते हैं। इस प्रकार संसार के समस्त प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष सभी प्रकार के उत्पत्ति पालन एवं लय, सभी के मूल में यज्ञ ही निहित है। अत: समस्त प्राणियों को यज्ञ में समीलित होना, यज्ञ का दर्शन व परिक्रमा करना तथा यज्ञ का प्रसाद अवश्य ग्रहण करना चाहिए। इससे सभी इच्छाएं पूर्ण होती हैं। इस मौके पर भारी संख्या में शिष्य-श्रद्धालु मौजूद रहे। शिव मंदिर पर भक्तों का हुजूम उमड़ा रहा। श्रद्धालुओं ने पूजन-अर्चन जलाभिषेक कर भण्डारे में प्रसाद ग्रहण किया।
इस मौके पर दुर्गविजय यादव, ललित नारायण गिरी, सुधीर चन्द्र त्रिपाठी, देवरहवा बाबा, रामाधार दास, शिवजी सिंह, रमाशंकर गिरी, धर्मराज, मौजनाथ, रामबचन सिंह, रामदरश सिंह, विरेन्द सिंह, शिवलाल यादव, शैलेश यादव, लल्लन सिंह मार्शल, महेद्र सिंह, राहुल गिरी, शैलेन्द सिंह आदि लोग मौजूद रहे।