ग़ाज़ीपुर- एमडीआर टीबी के मरीजों को 24 मार्च से दी जाएगी नई दवा

प्रखर ब्यूरो ग़ाज़ीपुर। साल 2025 तक टीबी रोग मुक्त भारत बनाने के क्रम में सरकार और स्वास्थ्य महकमा कई तरह की कवायद कर रहा है। इसी क्रम में राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत क्षय रोग के एमडीआर मरीज के लिए एक नई दवा जो बहुत अधिक प्रभावशाली है तथा जिसकी कीमत बहुत अधिक है। यह दवा छह माह के लिए होती है जो 24 मार्च से सभी एमडीआर मरीजों को निःशुल्क दी जाएगी। गत दिवस इसको लेकर मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय के प्रशिक्षण भवन में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. जी.सी. मौर्य ने प्रशिक्षण का शुभारंभ किया। प्रशिक्षण में क्षय रोग से जुड़े एसटीएस, एसडीएलएस, टीबीएचवी, एलटी व काउंसलर शामिल रहे। प्रशिक्षण शिविर में प्रशिक्षक के रूप में डॉ. स्वतंत्र सिंह व डॉ. धीरेंद्र प्रताप रहे। जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉ. मिथिलेश सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत एमडीआर मरीज जिन्हें 24 मार्च से नई दवा शुरू की जाएगी, जिसको लेकर प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। उन्होंने बताया कि एमडीआर के मरीजों को निक्षय पोषण योजना के तहत दवा चलने तक 500 रुपये प्रतिमाह विभाग के द्वारा दिया जाता है। इसके साथ ही जांच कराने और बीएचयू तक आने व जाने का खर्च भी विभाग की ओर से दिया जाता है। एमडीआर मरीजों को आशा कार्यकर्ता व ट्रीटमेंट सपोर्टर के द्वारा दवा खिलाया जाता है। दवा खिलाने के लिए इन लोगों को भी विभाग की ओर से प्रोत्साहन राशि दी जाती है।