ग़ाज़ीपुर- संत्संगियो द्वारा भजन कीर्तन व अमृतवाणी के साथ ही विशाल भण्डारे का किया गया आयोजन

प्रखर ब्यूरो मरदह/ग़ाज़ीपुर। ब्लाक के बेलसङी धाम के संत्संगियो द्वारा नोनरा गांव में भजन कीर्तन व अमृतवाणी के साथ ही विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया। प्रवचन के माध्यम संत बाल योगी महेश दास जी ने भक्तगणो से कहा कि गुरू गंगा काशी स्थाना चार वेद गुरू गंमे जाना, राम- कृष्ण सो कौन बड़े सो हू तो गुरू किन तीन लोक के वे धनी सो गुरू आगे अधीन, वशिष्ठ गुरु किए रघुनाथा दर्शन पाए भय सनाथा कृष्ण गये दुर्वाशा सरना भक्ति पाए जग तारन तरना, जगत गुरू ब्राह्मण- ब्राह्मण गुरू संयासी अर्थात बिना गुरु का किसी भी जीव आत्मा का कल्याण संभव नहीं है। इसलिए प्रत्येक मनुष्य को अपने जीवन में गुरु करना चाहिए और संत महापुरुषों के सत्संग भजन कीर्तन प्रवचन दोहे को अपने जीवन में अमल करते हुए उनके बताएँ हुए मार्ग पर चलना चाहिए। “सद्गुरू के परम उदेश्य प्रेम, सेवा, सत्य, उपकार”‘ सब धर्म का यहीं साध’ 68 तीर्थ करें परिकर्मा’सो पल पावें संतो के चरना, कहिही उमामय् अनुभव अपना सत्य, हरि, भजन, जगत, सब अपना। इस अवसर पर विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया, जिसमें सैकड़ों कि संख्या में भक्तगणों ने प्रसाद ग्रहण कर आर्शिवाद लेते हुए जयकारे का उद्घघोष किया।
इस मौके पर ग्राम प्रधान रामबचन यादव, जवाहर मद्धेशिया, ओमप्रकाश, संदीप सिहं पिन्टू, पूनम सिंह, भानू सिहं, बब्बन सिहं, सिन्टू सिहं, शेखर सिहं, विनोद सिहं, हरिनाथ मौर्य, अशोक, विन्धाचल, अवधेश दास, धर्मेन्द्र, गिरीशचन्द्र, लल्लन, अनिल वर्मा, अनील सिहं आदि लोग मौजूद रहे।