ग़ाज़ीपुर- निर्भया के हत्यारों को फांसी के बाद मनाई गई होली

प्रखर ब्यूरो मरदह/ग़ाज़ीपुर। निर्भया के हत्यारों को फांसी के बाद होली मनाई गई। 7 साल पहले दिल्ली में चलती हुई बस में 16 दिसंबर 2012 को दर्दनाक गैंगरेप ने और निर्भया के साथ हुई हैवानियत ने पूरे देश को झकझोर दिया था। इस संबंध में निर्भया के माता-पिता तथा देश के तमाम स्वयंसेवी संगठनों का संघर्ष लगातार जारी था। रेड ब्रिगेड भी उन्हीं में से एक प्रमुख संस्था है जो बलात्कार के मुद्दे पर काम कर रही हैं। रेड ब्रिगेड जनफद में है जो लगातार यौन हिंसा से कैसे बचें और लड़कियां सुरक्षित कैसे रहें उस पर संघर्ष कर रही हैं। कोर्ट ने सभी को फांसी की सजा दे दी थी और बलात्कारी फिर भी कुछ ना कुछ तिकड़म करके बच जा रहे थे। आज सुबह जब निर्भया के दोषियों को फांसी हुई तो पूरे देश के साथ-साथ जनपद में भी खुशी का माहौल बना। लड़कियों ने यह तय किया था कि हमारी होली अब निर्भया के हत्यारों को फांसी के बाद ही मनेगी और आज सुबह जब निर्भया के हत्यारों को फांसी के फंदे पर लटकाया गया तो सभी बालिकाओं और महिलाओं ने मरदह बाजार में घूम घूम कर नारे लगाए और अबीर गुलाल लगाकर खुशियां मनायी।
कार्यक्रम में प्रमुख रुप से रेड ब्रिगेड की कोऑर्डिनेटर अंकिता मित्रा, प्रियंका भारती, सुष्मिता भारती, प्रीति आदि दर्जनों लड़कियां शामिल थीं।