कोरोना को लेकर पीएम का बड़ा आदेश, 14 अप्रैल तक पूरे देश में लॉक डाउन

प्रखर दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को संबोधित कर रहे हैं. पीएम मोदी ने आज रात 12 बजे से पूरे देश में संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया है. प्रधानमंत्री ने कहा कि हिंदुस्तान को बचाने के लिए, हिंदुस्तान के हर नागरिक को बचाने के लिए आज रात 12 बजे से, घरों से बाहर निकलने पर, पूरी तरह पाबंदी लगाई जा रही है। पीएम मोदी ने कहा कि स्वास्थ्य एक्सपर्ट की माने तो कम से कम 21 दिन का समय बहुत अहम है। अगर ये 21 दिन नहीं संभले तो देश और आपका परिवार 21 साल पीछे चला जाएगा। अगर ये 21 दिन नहीं संभला तो कई परिवार हमेशा हमेशा के लिए तबाह हो जाएंगे। इसलिए बाहर निकलना क्या होता है ये 21 दिनों के लिए भूल जाइए। अपने घर में ही रहें। साथियों आज ये फैसले ने देश व्यापी लॉकडाउन ने आपके घर के दरवाजे पर एक लक्ष्मण रेखा खींच दी है। याद रखना आपका सिर्फ एक कदम कोरोना जैसी महामारी को घर ले आ सकता है।कोरोना से तभी बचा जा सकता है जब घर की लक्ष्ण रेखा न लांघी जाए। हमे इस महामारी के वायरस का संक्रमण रोकना है। हमें इसके चेन को तोड़ना है। ये समय हमारे संकल्प को बार बार मजबूत करने का है। ये समय कदम-कदम पर संयम बरतने का है। आपको याद रखना है जान है तो जहान है। साथियों ये धैर्य अनुशासन की घड़ी है। लॉकडाउन के लिए अपना वचन निभाना है। कोरोना वैश्विक महामारी स्थितियों के बीच केंद्र और देशभर की राज्य सरकारें तेजी से काम कर रही हैं। रोजमर्रा की जिंदगी के लिए लोगों को असुविधा न हो इसको लेकर काम कर रही है। जरूरी वस्तुओं की सप्लाई प्रभावित न हो इसके लेकर हर प्रयास किए जा रहे हैं। गरीबों को मुसीबत कम हो इसके लिए निरंतर जुटे हुए हैं। गरीबों की मदद के लिए अनेके लोग साथ आ रहे हैं। साथियों जीवन जीने के लिए जो जरूरी है उसके लिए सारे प्रयासों के साथ ही जीवन बचाने के लिए जो जरूरी है उसे सर्वोच्च प्राथमिकता देनी ही पड़ेगी। इस महामारी से मुकाबला के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं को सरकार तैयार कर रही है। पीएम ने कहा कि मैंने राज्यों से अनुरोध किया है कि सभी राज्यों की पहली प्राथमिकता स्वास्थ्य सुविधा ही होनी चाहिए। प्राइवेट लैब, अस्पताल सभी इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरकार के साथ काम करने के लिए आगे आ रहे हैं।पीएम मोदी ने कहा कि मेरा आपसे आग्रह है कि किसी भी तरह की अफवाह और अंधविश्वास से बचें। सरकारों द्वारा दिए गए निर्देश और सुझावों का पालन करना बहुत जरूरी है। इस बीमारी के लक्षणों के दौरान बिना डॉक्टरों के सलाह के कोई भी दवा न लें, ये आपके जिवन को खतरे में डाल सकता है। 21 दिन का लॉकडाउन लंबा समय है लेकिन आपकी रक्षा के लिए आपके परिवार के हमारे पास यही एक मात्र रास्ता है।आप अपना ध्यान रखिए, अपनों का ध्यान रखिए और आत्मविश्वास के साथ कानून नियमों का पालन करते हुए पूरी तरह संयम बरतते हुए हम सब इन बंधनों को स्वीकार करें।