बीएचयू ! कोरोना की जांच अब होगी मात्र 4 मिनट में 

एबॉट मशीन से होगी जांच, 1 घण्टे में
प्रखर वाराणसी। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के माइक्रोबायोलॉजी लैब को कोरोना वायरस जांच लैब के रूप में शासन द्वारा विकसित किया गया है। वाराणसी सहित आस पास के जनपदों की लगभग 1000 कोरोना सैम्पल यहाँ जांच के लिए रोज़ाना आते हैं। कोरोना संक्रमण के दिन बी दिन बढ़ते प्रकोप को देखते हुए अब काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में नयी एबॉट मशीन इंस्टाल की गयी है जो जल्द ही अपना काम शुरू कर देगी। यह मशीन 6 घंटे में 90 सैम्पल की रीपोर्ट तैयार कर देगी। इस सम्बन्ध में मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ वीबी सिंह ने बताया कि बनारस सहित आस पास के ज़िलों की कोरोना सैम्पल की जांच बीएचयू में हो रही है। यहाँ प्रतिदिन 600 सैम्पल जांच करने की क्षमता है, जिससे इस लैब पर हमेशा लोड बना रहता हैं। सैम्पलों की जांच तेज़ी से हो सके इसके लिए 90 लाख रूपये की लागत से नयी एबॉट मशीन लायी गयी है। यह मशीन 6 घंटे में 90 सैम्पल और 24 घंटे में 360 सैम्पल की जांच। इसकेअलावा यहाँ एक जीन एक्सपर्ट मशीन भी मंगाई गयी है जो एक मिनट में 16 सैम्पल की जांच कर सकती है। दोनों ही मशीने ऑटोमैटिक हैं। डॉ वीबी सिंह ने बताया कि बीएचयू में अभी ट्रू-नेट मशीन जो टीबी जांच में उपयोग में लायी जाती है उससे कोरोना का सैम्पल जांचा जा रहा है। बीएचयू में चार ट्रू नेट मशीन है, जिसमे एक घंटे में एक सैम्पल की जांच ही संभव है।