नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में बनारस के मुस्लिम!

प्रखर वाराणसी। वाराणसी में आयोजित नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन वाली रैली में बनारस के मुस्लिमों ने भी हिस्सा लिया उनके हाथ में वी सपोर्ट सीएए की तख्तियां थी। बतादें कि सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के प्रांगण में बीजेपी की सीएए रैली के समर्थन में मुस्लिमों ने भी भागीदारी की बता दें कि विपक्ष इस तरह की रैलियों में आने वाले मुस्लिमों को प्रायोजित बताता रहा है वहीं बीजेपी भी शाहीन बाग में चल रहे आंदोलन को प्रायोजित बताती रही है। इस रैली में आए मुस्लिम समुदाय के लोगों ने कहा कि हम सीएए का समर्थन करने के लिए आये हैं क्योंकि जिन लोगों को पहले ही नागरिकता मिल जानी चाहिए थी। मोदी सरकार उन्हें अब दे रही है। सीएए किसी की नागरिकता को छीनने का नहीं देने का कानून है। मुस्लिम महिला हुस्ना बेगम ने कहा कि हम लोग सीएए के समर्थन में आये हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली में विरोध में बैठी मुस्लिम महिलाओं को इस कानून की जानकारी नहीं है वह दूसरी पार्टी के बहकावे में आकर धरना दे रही है। बतादें की पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सीएए के समर्थन में होने वाली रैली में मुस्लिमों को शामिल कराने के लिए घर-घर जनसम्पर्क अभियान चलाया था। जिसके बाद कुछ मुस्लिम रैली में पहुंचे थे। रैली में कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी, केन्द्रीय मंत्री डा.महेन्द्र नाथ पांडेय, सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, पूर्व सांसद मनोज सिन्हा आदि दिग्गज नेताओं ने राहुल गांधी, अखिलेश यादव से लेकर विरोधी दल के अन्य नेताओं पर जमकर निशाना साधा। कहा कि पीएम मोदी सरकार ने देश हित में सीएए को लाया है जबकि विपक्षी दलों भ्रम फैला कर लोगों को भ्रमित कर रहे हैं। बीजेपी कार्यकर्ता लोगों के बीच जाकर उन्हें कानून की जानकारी दे। बता दें कि इस कानून पर बने भ्रम को खत्म करने के लिए राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय में सीएए कोर्स चलाने की बात कही है।