अयोध्या पहुंचे तारिक फ़तेह ने कहा सीएए का विरोध करने वाले साजिश का हिस्सा

-मौलानाओं को लेकर भी कही बड़ी बात
–  जामिया मिलिया जैसे संस्थानों को प्राइवेट हाथों में देने की बात कही
प्रखर अयोध्या ।  पाकिस्तान से निर्वासित मशहूर समालोचक और वरिष्ठ पत्रकार तारिक फतेह एक निजी कार्यक्रम के दौरान अयोध्या में पहुंचे थे। गौरतलब है कि अयोध्या के डॉ राम मनोहर लोहिया विश्वविद्यालय में आयोजित श्रीराम विषयक संगोष्ठी में शिरकत करने पहुंचे प्रख्यात समालोचक तारिक फतेह मंगलवार को मीडिया के सवालों का जवाब दे रहे थे। तारिक फतह
ने कहा कि क्या किसी ने बाबर को बरगलाया था? जो वह भारत में आकर मस्जिद बना गया। क्या उसको अयोध्या की जमीन ठेके पर मिली थी ? या फिर म्युनिसपल्टी में दी थी जमीन ? उन्होंने सवाल उठाया कि 1000 साल बीत गए और हम यही नहीं जान पाए कि ऐसा क्यों हुआ था? उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि कौन लोग हैं और क्या चाहते हैं? इसका हमको जवाब जानना चाहिए। यह लोग गजवा ए हिंद के पोषक हैं और हिंदुस्तान के दुश्मन हैं। इसके साथ ही उन्होंने जामिया मिलिया जैसे संस्थानों को सरकार को प्राइवेट हाथों में देने की बात भी कही।  उन्होंने कहा कि इसका अधिग्रहण कर लेना चाहिए और सवाल किया कि धार्मिक शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय और संस्थान का क्या काम ? क्या हमारे धर्म गुरुओं में किसी विश्वविद्यालय में जाकर शिक्षा ली थी? नागरिकता संशोधन बिल और एनआरसी तथा राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के विरोध के सवाल पर उन्होंने कहा कि विरोध करने वालों को बरगलाया नहीं गया है बल्कि यह सब साजिश के तहत हो रहा है। यह सब साजिश उन्हीं लोगों की है जो गजवा ए हिंद अर्थात भारत के खिलाफ जिहाद की बात कहते हैं।