सीएए पर बेनियाबाग में जुड़ने के लिए खाते में भेजी गई थी मोटी रकम, जांच पड़ताल जारी

फरार लोगों की सूचना देने वाले को 5,000 का इनाम दिया जाएगा- वाराणसी पुलिस

15 फरार लोगों की पुलिस ने जारी की है तस्वीर

प्रखर वाराणसी। सीएए को लेकर शाहीन बाग की तरह वाराणसी के बनिया बाग में भी शुरू हुए प्रदर्शन में चौंकाने वाले खुलासे सामने आए हैं। पुलिस ने काफी बड़े चौकाने वाले खुलासे किए हैं, अभी तक कई लोगों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जिनमें 15 फरार बताए जा रहे हैं, फरार लोगों का नाम बताने वाले को 5000 का इनाम देने की भी घोषणा की गई है। साथ ही एक बड़ी खबर सामने आ रही है कि बेनियाबाग मैदान में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में प्रदर्शन के लिए कुछ लोगों के खाते में मोटी रकम भेजी गई है, जिसकी पुलिस जांच पड़ताल कर रही है। बताया जा रहा है कि इनमें काफी लोग मऊ व अन्य जिलों से भी बुलाए गए थे। जिनके खाते में रकम भेजी गई। शाहीन बाग की तरह वाराणसी के बेनियाबाग में भी बड़ा विरोध करने का प्लान बनाया गया था, इसके अलावा लहुराबीर कच्ची बाग स्थित आजाद पार्क में भी जुटने की अपील की गई थी। वहीं पुलिस का कहना है कि जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनसे कड़ाई से पूछताछ की जा रही है। साथ ही फरार लोगों पर 5000 का इनाम घोषित किया गया है, सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा। साथ ही एसएसपी ने बताया कि यह पूरी तरह से प्रायोजित करके विरोध प्रदर्शन करने का पूरा प्लान बनाया गया था। साथ ही जिन खातों में पैसे भेजे गए हैं, इसकी जांच कराई जा रही है । इसकी फंडिंग किसने की है, उसकी भी जांच की जाएगी। साथ ही इन्हें आश्रय देने वाले को भी नहीं बख्शा जाएगा। जिन लोगों पर इनाम घोषित है उन 15 लोगों की पुलिस ने तस्वीर भी जारी कर लोगों से जानकारी इकट्ठा कर रही है। इसके अलावा बेनियाबाग की घटना के बाद एक सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें बताया जा रहा है कि पुलिस बेरहमी से प्रदर्शनकारियों पर लाठियां बरसा रही है। लेकिन यह वीडियो फर्जी बताया गया है। इस वीडियो पर जिलाधिकारी ने अपनी सफ़ाई देते हुए कहा है कि यह वीडियो पूरी तरह से फर्जी है। इस तरह के वीडियो वायरल करने वाले को चिन्हित कर उस पर कार्रवाई की जाएगी।