आजमगढ़ कलेक्ट्रेट बार के पूर्व मंत्री ने लाइसेंसी बंदूक से की आत्महत्या

बीमारी को लेकर अवसाद में थे

प्रखर आजमगढ़। आजमगढ़ कलेक्ट्री बार के पूर्व मंत्री ने अवसाद में आकर अपनी लाइसेंसी बंदूक से अपने निवास स्थान पर खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि वह डिप्रेशन में चल रहे थे, साथ ही वह किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित भी थे। जानकारी के अनुसार सुरेंद्र सिंह ने अपनी लाइसेंसी बंदूक से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। शनिवार की सुबह करीब आठ बजे आजमगढ़ के सिधारी स्थित सुंदरनगर कालोनी के अपने निजी आवास पर उन्होंने खुद के गोली से आत्महत्या कर ली। पुलिस का कहना हैं कि बीमारी के कारण अवसाद में चल रहे थे। बतादे कि सुरेंद्र सिंह चार बार अलग-अलग समय कलक्ट्रेट बार के मंत्री रहे हैं। बताया जा रहा है कि शनिवार की सुबह 56 वर्षीय सुरेंद्र सिंह अपने घर व चैंबर के बाहर बैठे थे। बहू चाय लेकर गई थी तो सामने ही बंदूक रखी थी। कुछ देर बाद गोली चलने की तेज आवाज सुनकर सभी उनकी ओर दौड़े तो देखा अपनी कुर्सी पर लहूलुहान सुरेंद्र सिंह एक तरफ पड़े थे। बगल में उनकी लाइसेंसी बंदूक थी। घर वालों के अनुसार वह एक वर्ष से बीमार थे। इसी के चलते वह डिप्रेशन में भी चल रहे थे। घर में भी अलग-अलग ही रहते थे। घटना की सूचना पर पुलिस के अलावा बड़ी संख्या में अधिवक्ता जगत के लोग जुट गए। पुलिस अन्य एंगल पर भी जांच में जुटी है। घटना के वक्त घर में पत्नी, एक पुत्र व बहू मौजूद थे। एक अन्य पुत्र दिल्ली में रहता है।