शिशुओं के समाजीकरण में लगा राष्ट्र कभी भी पराजित नही हो सकता :एनपी सिंह

प्रखर जौनपुर । नगर के रासमण्डल स्थित रामेश्वर शिशु बिहार जूनियर हाईस्कूल का वार्षिकोत्सव रंगारंग कार्यक्रमों के बीच धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम में बातौर मुख्य अतिथि पहुंचे जिलाधिकारी आजमगढ़ एनपी सिंह ने कहा कि किसी भी सशक्त राष्ट्र के निर्माण में वहां के शिशुओं का पालन पोषण, रहन सहन, शिक्षा और संस्कार की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। शिशु के शिल्प की प्रक्रिया ही राष्ट्र के भविष्य एवं संगठनात्मक मजबूती की प्रतीक होती है। शिशुओं के सामाजिकरण में लगा राष्ट्र कभी भी पराजित नहीं हो सकता है। उन्होंने महिला सशक्तिकरण पर जोर देते हुए कहा कि बेटियों को भी बेटों के समान ही अधिकार एवं स्वतंत्रता मिलनी चाहिए, जिससे बेटियां भी अपनी क्षमता का बेहतर प्रदर्शन कर देश व समाज के विकास में अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर सकें। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डा० कीर्ती सिंह ने राष्ट्र के विकास में शिक्षा के महत्व पर विस्तार से प्रकाश डाला । शिक्षाविद् डा० मनोज वत्स ने कहा कि परिवार प्रथम पाठशाला होता है परिवार एवं विद्यालय का नैतिक दायित्व होता है कि शिक्षा के साथ बच्चों में संस्कार का विकास करें। संस्कारयुक्त शिक्षा ही देश व समाज को सशक्त बनाने में सकारात्मक भूमिका निभा सकती है।
कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि द्वारा फीता काटकर एवं मां सरस्वती के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। तत्पश्चात छात्र छात्राओं द्वारा शानदार सांस्कृतिक प्रस्तुति ने लोगों को भाव विभोर कर दिया। विद्यालय की प्रबंधक विमला सिंह द्वारा अतिथियों को अंगवस्त्रम एवं जीवनोपयोगी पुस्तक भेंटकर सम्मानित किया गया। अतिथियों द्वारा बच्चों को पुरस्कृत कर हौसला आफजाई की गई । इस अवसर पर अशोक कुमार सिंह प्रबंधक टीडी पीजी कालेज , प्रो० आर एन सिंह, रजनी सिंह जिला समन्वयक महिला समाख्या ,सभाजीत द्विवेदी ‘प्रखर’ ,पत्रकार विद्याधर राय विद्यार्थी, कैलाश विश्वकर्मा, साजिद हमीद, संजय उपाध्याय, सीमा सिंह परामर्शदाता महिला चिकित्सालय, ज्योति सिंह परामर्शदाता 181, कर्मवीर भारती एडवोकेट, एसपी सिंह , गौतम गुप्ता, डा० मोहनलाल ।केसरवानी सहित तमाम गणमान्य लोग उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन आलोक कुमार वैश्य, एवं आये हुए अतिथियों के प्रति धन्यवाद प्रधानाचार्य वृजेश कुमार वर्मा (आलोक) ने ज्ञापित किया।