एक किलो चावल व 400 ग्राम दूध, पूर्व माध्यमिक के अध्यापक ने 32 बच्चों में बटवाया

जबकि इतने बच्चों में 4 किलो 800 ग्राम चावल और 6 लीटर 300 ग्राम दूध का वितरण होना चाहिए

प्रखर मिर्जापुर। क्षेत्र के मझवां ब्लाक में स्थित बरैनी गांव के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में एमडीएम वितरण , किलो चावल की तहरी व चार सौ मिलीग्राम दूध में पानी मिलाकर 32 बच्चों में बांट दिया गया। मानक के अनुसार इतने बच्चों को 4 किलो 800 ग्राम चावल और 6 लीटर 300 ग्राम दूध का वितरण होना चाहिए था। बताया जा रहा है कि मामले का खुलासा बुधवार को विंध्याचल मंडल के एमडीएम समन्वयक के निरीक्षण के समय हुआ। बतादे कि मंडलीय समन्वयक ने प्रधानाध्यापक (एमडीएम प्रभारी) के खिलाफ कार्रवाई के लिए बीएसए को पत्र लिखा है। पूरे मामले के अनुसार बरैनी गांव के जूनियर हाईस्कूल का विंध्याचल मंडल के मंडलीय समन्वयक एमडीएम राकेश तिवारी ने बुधवार को 11 बजे दौरा किया। निरीक्षण के दौरान स्कूल में कुल 32 छात्र-छात्राएं उपस्थित थे। जबकि 68 छात्र-छात्राएं पंजीकृत हैं। निरीक्षण के दौरान किचन में चार सौ मिलीग्राम दूध का सिर्फ एक पैकेट मिला। पूछने पर रसोइया ने बताया कि चार सौ ग्राम दूध में ही पानी मिलाकर 32 छात्रों में बांट दिया गया है। बताते चले कि चूल्हे पर पक रही चावल की तहरी भी सिर्फ एक किलो चावल में ही बन रही थी। वही रसोइया से मिली जानकारी के बाद मंडलीय समन्वयक ने सहायक अध्यापक प्रकाश नाथ पटेल व सहचर रमेश से इसबारे में पूछताछ की गई तो गोल गोल घुमाने लगे। जानकारी सही मिलने पर निष्ठा ट्रेनिंग में गए प्रधानाध्यापक तेजू को फोन पर कड़ी फटकार लगाई। वही इस संबंध में डीएम सुशील कुमार सिंह ने कहा कि यदि ऐसा मामला है तो इसकी जांच करा कर कार्यवाही की जाएगी। मामले में जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी। दूसरी तरफ बीएसए वीरेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि बरैनी पूर्व माध्यमिक विद्यालय में दूध का मामला मेरे संज्ञान में आया है, लेकिन एक किलो चावल से तहरी बनाने की जानकारी मुझे नहीं है। दोनों मामलों में स्कूल प्रधानाध्यापक से बात की जाएगी। दोषी होने पर उचित कार्यवाही होगी।