चंदौली गंगा नदी नाव हादसा ! डूबी किशोरी निकाली गई चार महिलाओं का पता लगाने में जुटी टीम

प्रखर चंदौली। शनिवार की देर शाम चंदौली गंगा नदी में नाव पलटने की वजह से 5 लोग डूब गए थे। जिसमें राहत बचाव कार्य टीम शव को ढूंढने का काम कर रही थी, जिसमें रविवार की सुबह एक किशोरी का शव बरामद किया गया। लेकिन चार महिलाओं का पता नहीं चल सका है, अभी भी गोताखोरों द्वारा उनकी खोज की जा रही है। बता दें कि धीना थाना क्षेत्र के महुंजी गांव के समीप गंगा नदी में हुए नाव हादसे में पहला शव मिला है। शनिवार शाम हुए हादसे में देर रात तक गोताखोरों को सफलता नहीं मिली। गोरखपुर से 15 सदस्यीय एसडीआरएफ की टीम ने रविवार की सुबह सात बजे से गंगा में तलाश शुरू की। लगभग पौने 11 बजे कुसहीं गांव की 14 वर्षीया ज्योति का शव निकाला जा सका। अन्य चारों महिलाओं की तलाश जारी है। बतादे कि महुंजी समेत आस पास गांवों के ग्रामीण प्रतिदिन नाव से गंगा उस पार गाजीपुर जिले के तटवर्ती गांव कटरिया, धरमापुर, मलपुरवां व गजाधरपुर गांव के खेतों में मजदूरी करने जाते हैं। रोज की तरह शनिवार की सुबह भी लगभग 50 महिला व पुरुष मजदूरी करने गए थे। इसमें महिलाओं की संख्या अधिक थी। शाम को सभी ग्रामीण नाव में सवार होकर अपने घर लौट रहे थे। महुंजी पहुंचने से पहले ही नाव में छेद होने से पानी भरने लगा। इससे नाव में सवार लोगों में हड़कंप मच गया। कई ग्रामीणों ने तैरकर अपनी जान बचाई। वहीं शोरगुल सुनकर आस-पास के ग्रामीणों ने छलांग लगाकर कुछ ग्रामीणों को बचाया। हादसे में महुंजी गांव की उर्मिला (30) पत्नी वीर बहादुर, मुरलीपुर गांव की फूलवासी (55) पत्नी स्वर्गीय दूधनाथ, कविता (15) पुत्री सजनू व ज्योति (10) पुत्री वीरेंद्र और कुसहीं गांव की ज्योति (14) पुत्री लाल साहब डूब गईं। डीएम नवनीत सिंह चहल व एसपी हेमंत कुटियाल की मौजूदगी में रात लगभग दस बजे तक गोताखोरों की टीम तलाश में जुटी रही, लेकिन सफलता नहीं मिली। बतादे कि वहीं देर रात तक गोरखपुर से एसडीआरएफ की टीम भी पहुंच गई। रविवार की सुबह सात बजे से गंगा में तलाश जारी है। अभी तक मात्र एक शव निकाला जा सका है। गंगा किनारे सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों की भीड़ जुटी है।