कोरोना के डर से होली पर चीनी सामानो का बाजार धड़ाम, देशी पर लोगों ने किया ध्यान केंद्रित

कोरोना के डर से होली पर चाइनीज पिचकारी व अन्य होली के प्रोडक्टो में भारी गिरावट

प्रखर लखनऊ। कोरोना वायरस की वजह से चीनी बाजार पूरी तरह चौपट हो गया है। जिसकी जगह देशी सामानों ने ले ली है। इस बार होली पर भारत में छाया रहने वाला चीनी माल लगभग लगभग गायब नजर आ रहा है। वहीं इस बार देशी आईटम ने लोगों के भरोसे के साथ बाजार में खास जगह बना रखी है। भारतीय सामान के साथ साथ बाजार में इस बार मोदी और योगी मुखैटे की भी खूब धूम नजर आ रही है। दरअसल कोरोना वायरस की वजह से चाइनीज पिचकारी और चाइनीज रंगों से लोग परहेज कर रहे है। चीन समेत कई देशों में कोरोना वायरस को लेकर फैली महामारी को देखते हुए चाइनीज उत्पादों पर इसका गहरा असर पड़ा है। खासतौर पर होली के त्योहार को लेकर चाइनीज रंगों और चाइनीज पिचकारी से भी लोग परहेज करते दिखायी दे रहे है। बता दें कि लखनऊ में रंगों और पिचकारियों की सबसे बड़ी मार्केट हैं। व्यापारियों के मुताबिक कोरोना वायरस के लेकर फैली महामारी का असर उनकी बिक्री पर पड़ा है।
चीन से होली पर नया सामान नहीं आने के कारण दुकानदार पुराना माल निकाल रहे है। लेकिन फिर भी खरीदार चाइनीज आइटम खरीदने से परहेज कर रहे है। जिसकी वजह से देसी रंगों से बाजार गुलजार दिखायी दे रहा है। दुकानदारों का ये कहना है कि कोरोना वायरस की वजह से ही सही लेकिन लोगों का रूझान चिनी आइटम की तरफ से कम हो रहा है। कोरोना वायरस को लेकर प्रदेश भर में अलर्ट कर दिया गया है. प्रदेश भर में विभिन्न अस्पतालों में 800 से ज्यादा बेड सुरक्षित किए गए है। जबकि लखनऊ के विभिन्न अस्पतालों में कुल 71 बेड सुरक्षित जहां पर कोरोना वायरस के प्रभावित मरीजों का इलाज किया जा सके। आपको बताते चले कि चीन से उत्तर प्रदेश में अब तक 2200 लोग आ चुके हैं। जिसमें अब तक 120 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं. उत्तर प्रदेश में अभी तक 9 मरीज कोरोना से पीड़ित मिल चुके है।
वही बात दे कि लखनऊ के लोकबंधु अस्पताल में 1 मरीज़ को आइसोलेट किया गया है। जांच के लिए सैंपल पुणे लैब भेजा गया है। लेकिन के बीच कोरोना वायरस को लेकर दहशत इस कदर है कि चीनी उत्पाद से भी किनारा कर रहे है।