अचानक जौनपुर पहुँचे मुख्यमंत्री , पीड़ित किसानों को दिया मुवायजा

प्रखर जौनपुर। पूर्वांचल दौरे पर निकले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को वाराणसी दौरे के बाद सीधे जौनपुर पहुंचे। पूर्वांचल विश्वविद्यालय में बने हेलीपैड पर उतरने के बाद वह सीधे करंजाकला ब्लाक पर पहुंचे। यहां पर उन्होंने ओलावृष्टि में मरे तीन किसानों के परिवारों को उन्होंने चार-चार लाख रुपये का मुआवजा दिया। साथ ही 57 किसानों को जिनके फसल नष्ट हुए है उनको भी मुआवजा दिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि शासन की स्पष्ट नीति है कि योजनाओं का लाभ बिना भेदभाव के हर पीड़ित और जरुरतमंद तक पहुंचनी चाहिए। इसी क्रम में आज मैं जौनपुर के उन प्रभावित परिवारों और खेतों का निरीक्षण करने आया हूं। मैंने बहुत नजदीक से देखा है कि भारी पैमाने में फसलों को और आम आदमी के बागों को नुकसान पहुंचा है। उन्होंने कहा कि किसान सर्वहितकारी बीमा योजना के अंतर्गत पहले इस पूरी योजना में केवल किसान ही उससे लाभान्वित हो पाते थे जो लोग खेत को होंडा में लेकर कार्य करते थे या खेतीहर मजदूर थे उनको इसका लाभ नहीं मिल पाता था। अब अगर कोई किसान या कोई खेतीहर मजदूर या कोई ऐसा व्यक्ति जो खेती का मालिक तो नहीं लेकिन खेती को करता रहा है वह भी किसी आपदा का शिकार होता है तो हम उसे बीमा योजना के अंतर्गत कवर करने की व्यवस्था कर रहे है वह कार्य हम लोगों ने प्रदेश के अंदर प्रारंभ कर दिया है। उन्होंने कहा कि 10 लाख किसान आपदा से प्रभावित हुए है इन सबका मुआवजा हम पहले ही सभी जनपदों में भेज चुके है और अधिकतर किसानों को हम लोगों ने होली के पहले जिनका नुकसान हुआ है उन्हें हमने मुआवजे की राशि उपलब्ध करायी है और होली के बाद जिनका नुकसान हुआ है उनको मुआवजा दिया जा रहा है। उन्होंने प्रशासन को निर्देशित किया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत तत्काल सर्वे कराकर स्पेशल टीम लगाकर किसानों को उनका जो नुकसान हुआ है उसकी भरपायी करने में मदद करें। उन्होंने कहा कि आपदा राहत के तहत जो सहायता किसानों को, सामान्य नागरिकों को करनी है जनप्रतिनिधियों के साथ इसी प्रकार से कैम्प बनाकर हर गांव में पहुंचकर उन लोगों को वहीं पर उनकी सहायता राशि उपलब्ध कराने में मदद करें। सभी जनप्रतिनिधि गांव-गांव जाय और किसानों को, सामान्य नागरिकों को आश्वस्त करें कि संकट की इस घड़ी में सरकार उनके साथ हैं हम सब उनके साथ हैं।
उन्होंने कहा कि अन्नदाता किसान है उसके सुख दुख में हम सब सहभागी बन करके उनके साथ खड़ें होंगे इस विश्वास के साथ मैं एक बार फिर से सभी पीड़ितों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं और किसान भाईयों को इस बात के लिए आश्वस्त करता हूं कि वे इस बात के लिए निश्चित रहें कि सरकार उनके साथ खड़ी है। जिन लोगों के मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं पूरी तरह टूट चुके हैं मैं जिला प्रशासन से कहूंगा कि उनका लोगों का सर्वे करा करके प्रधानमंत्री आवास योजना या मुख्यमंत्री आवास योजना में उन्हें आवास दिलाने की व्यवस्था सुनिश्चित कर लें जिससे कोई भी व्यक्ति सिर को ढकने के लिए छत से वंचित न रहने पाएं इस कार्य को भी हम प्राथमिकता के आधार पर करें। कार्यक्रम का संचालन डीएम दिनेश कुमार सिंह ने किया। कार्यक्रम में अपर गृह सचिव अवनीश अवस्थी, मछलीशहर सांसद बीपी सरोज, राज्यमंत्री गिरीश चंद्र यादव, विधायक रमेश मिश्रा, दिनेश चौधरी, हरेंद्र प्रताप सिंह, सुरेंद्र सिंघानिया, पूर्व सांसद डॉ. केपी सिंह, जिलाध्यक्ष पुष्पराज सिंह, मछलीशहर जिलाध्यक्ष रामविलास पाल, आईजी विजय मीणा, एसपी अशोक कुमार सहित प्रशासनिक एवं पुलिस के अधिकारी मौजूद रहे।