वाराणसी में प्राइवेट संस्थाओं ने अपने कर्मचारियों को बनाया बंधुआ मजदूर, परिवार परेशान

– मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के निर्देश के बावजूद संस्थान कर रहे मनमानी

प्रखर वाराणसी। एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के नाम संदेश में लोगों से जनता कर्फ्यू की अपील कर रहे हैं । जिससे कोरोना जैसे खतरनाक वायरस से मुकाबला किया जा सके । वहीं दूसरी तरफ उनके संसदीय क्षेत्र में तमाम निर्देशों की अवहेलना करते हुए प्राइवेट शिक्षण संस्थान और टेक्निकल इंस्टिट्यूट अपने कर्मचारियों को लगातार कार्यस्थल पर बुला रहे हैं। जिसके कारण काम करने वाले प्राइवेट शिक्षकों और कर्मचारियों के घरों में उनके बच्चे और परिवार के लोग लगातार परेशान दिख रहे हैं। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के कई ख्यातिलब्ध शिक्षण संस्थान और प्राइवेट इंस्टीट्यूट अपने यहां काम करने वाले शिक्षकों, कर्मचारियों और सफाई कर्मियों सहित तमाम स्टाफ को लगातार कार्यस्थल पर बुला रहे हैं। जबकि जिलाधिकारी ने इस मामले में निर्देश जारी करते हुए सभी सार्वजनिक जगहों पर भीड़ इकट्ठा न हो इसको देखते हुए एहतियातन धारा 144 लागू करने का आदेश दे दिया है इसके बावजूद मनमानी करने वाले यह संस्थान सरकारी आदेशों और निर्देशों को ठेंगा दिखाते हुए लगातार कर्मचारियों का मानसिक उत्पीड़न करते दिखाई दे रहे हैं । परिवार वालों का कहना है कि अगर उनके परिजनों को कोरोना जैसी घातक बीमारी होती है तो क्या यह संस्थान उसके लिए अपनी जवाबदेही मानने के लिए तैयार हैं। जबकि लगभग पूरे देश में कर्फ्यू जैसे हालात हैं । ऐसे में इन कर्मचारियों को अपने कार्यस्थल पर बुलाकर की संस्थाएं और उनके प्रबंधक समाज को क्या संदेश देना चाहते हैं।