ग़ाज़ीपुर- कोरोना वायरस एवं लाक डाउन के कारण मां कष्टहरणी धाम के गेट हुए बन्द

प्रखर ब्यूरो गाजीपुर। जनपद के मुहम्मदाबाद चितबडागांव मार्ग पर करीमुद्दीनपुर स्थित ईक्यावन शक्तिपीठ में से एक प्रमुख पीठ मां कष्टहरणी धाम में भी कोरोना वायरस एवं देशव्यापी लाकडाउन के कारण दर्शन पूजन बन्द कर दिया गया है। पूरे हिन्दुस्तान में एक मात्र कष्टहरणी धाम ईकलौता मंदिर है जहां नवरात्र में चौबीस घंटे का संकल्पित अखण्ड दीपक जलाया जाता है। महिलाएं अपने पुत्र एवं पति की सलामती, उनके नौकरी, ब्यापार में उन्नति के लिए, कुंवारी कन्याओं द्वारा सुयोग्य जीवन साथी समेत सन्तान की प्राप्ति के लिए दीपक जला कर चौबीस घंटे मां कष्टहरणी की भक्ति में लीन हो जाती है। नवरात्र में यहां लाखों की संख्या में दर्शनार्थियों की आवा जाही होती है। मां कष्टहरणी अपने भक्तों के दैहिक, दैविक एवं भौतिक तीनों ताप संताप हर लेती हैं। भक्तवत्सला मां कष्टहरणी सच्चे मन से भक्त के द्वारा की गयी प्रार्थना को सुन कर उसके दामन को खुशियों से भर देती हैं। त्रेतायुग में भगवान राम अयोध्या से बक्सर जाते समय महर्षि विश्वामित्र के साथ मां कष्टहरणी धाम पर रूकने के बाद ही आगे बढे थे। द्वापर में युधिष्ठिर अपने कुलगुरु धौम्य ऋषि एवं अपने भाइयों के साथ अज्ञात वास में आकर मां का दर्शन किये थे व उसके बाद महाभारत के युद्ध में बिजय प्राप्त किये। बाबा कीनाराम जी को मां कष्टहरणी ने स्वयं प्रसाद देकर सभी सिद्धीयां प्रदान की थी। कोरोना वायरस एवं लाक डाउन के कारण मां कष्टहरणी धाम के पुजारी हरिद्वार पाण्डेय एवं उनके सहयोगी राजकुमार पाण्डेय के द्वारा मां का श्रृंगार पूजन एवं आरती की गयी। करीमुद्दीनपुर थानाध्यक्ष दिव्य प्रकाश सिंह ने बताया की मां कष्टहरणी धाम समेत पूरे थानाक्षेत्र में लाक डाउन का पालन कराया जा रहा है। पुलिस के द्वारा लोगों को घर से बाहर निकलने से मना किया जा रहा है। थानाध्यक्ष ने बताया की शासन से प्राप्त दिशानिर्देश को हम लोग क्षेत्र में लोगों को अपने स्तर से जागरूक करते हुवे पालन कराने में लगे हैं।