प्रदेश में कमिश्नरी सिस्टम लागू सुजीत पांडेय लखनऊ और आलोक सिंह नोएडा के पहले कमिश्नर

-दस लाख की आबादी वाले जिलों में लागू होगा यह सिस्टम

-पुलिस अधिकारियों के पास मजिस्ट्रेट जैसे पावर

प्रखर लखनऊ। आईपीएस एसोसिएशन की वर्षो पुरानी मांग को आखिरकार उत्तर प्रदेश सरकार ने स्वीकार करते हुए कैबिनेट से मंजूरी दे दी है । बता दें कि उत्तर प्रदेश में पहली बार पुलिस कमिश्नरी सिस्टम को लागू किया गया है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के पहले पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय को बनाया गया है। वहीं नोएडा के पहले पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह बनाए गए हैं। बतादें कि अभी तक देश के 15 राज्यों के 71 शहरों में पुलिस कमिश्नर नियुक्त हैं। उत्तर प्रदेश में यह प्रणाली पहली बार लागू हुई है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहाकि उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था को दुरूस्त करने के लिए उत्तर प्रदेश कैबिनेट बैठक ने एक ऐतिहासिक फैसला लिया है। अब सरकार राजधानी लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नरी सिस्टम लागू करने जा रही है। इस सिस्टम को दस लाख की आबादी वाले जिलों में लागू किया जाएगा। इस सिस्टम के लागू होने के बाद पुलिस अधिकारियों के पास मजिस्ट्रेट के पावर होंगे और जिले में डीएम के अधिकार कम हो जाएंगे। इस सिस्टम के लागू होने पर डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि इस सिस्टम के लागू होने से मैं बहुत खुश हूं, बहुत दिनों से इस का इंतजार था, आज जाकर यह पूरा हुआ। इस सिस्टम के कारण अब इन जिलों के जिलाधिकारीयों के अधिकारों में कमी की जाएगी वहीं पुलिस कमिश्नर के अधिकारों में एसएसपी के अधिकारों से ज्यादा इजाफा हो जाएगा जिससे लॉ एंड ऑर्डर मेंटेन करने में मदद मिलेगी।