धरमपुर के दिवाकर सिंह यादव सेना में बने लेफ्टिनेंट

0
344

प्रखर चोलापुर वाराणसी। क्षेत्र के धरमपुर बेला के निवासी धर्म सिंह यादव ट्रेनिंग अकादमी चेन्नई से अपनी ट्रेनिंग पूरी कर सेना में लेफ्टिनेंट का पद को जल्द ही सुशोभित करेंगे। बता दें कि दिवाकर की है दूसरी पीढ़ी है जो सेना की सेवा करने जा रही है। इनके पहले लड़के के पिता भारतीय सेना में सुबेदार रैंक पर हैं बरेली में कार्यरत है और इनके चाचा तहसील दार यादव इसी वर्ष भारतीय सेना से हवलदार रैंक से रिटायर्ड हुएं है। बताया जाता है कि चाचा तहसीलदार के मार्गदर्शन से ही यह लड़का आज आफिसर रैंक पर गया है।
दिवाकर को भारतीय सेना में भर्ती हो होने का जज्बा बचपन से ही था, वह कहते थे कि मुझे सेना में जाकर देश की सेवा करनी है। जिस पर उसने बड़े होकर सेना में भर्ती का अपना जज्बा पूरा किया। अब दिवाकर पूरी शिद्दत और मेहनत के साथ देश की सेवा करेंगे। बता दें कि पूर्व में दिवाकर का चयन भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट पद पर हुआ था। मूल रूप से वाराणसी जिले के चोलापुर ब्लाक के तहत आने वाले धरमपुर गांव के निवासी हैं। दिवाकर के दादा स्वर्गीय रईस यादव की हमेशा इच्छा रही थी कि दिवाकर भारतीय सेवा सेना में अफसर बन गांव और क्षेत्र का नाम रोशन करें। दिवाकर ने पहले प्रयास में ही सर्विस सिलेक्शन बोर्ड में चयन हो गया। बता दें कि इनकी प्रारंभिक शिक्षा वाराणसी तथा इनके पिता सूबेदार राम बुझारत यादव की देखरेख में मथुरा तथा बेंगलुरु में हुई है। आर्मी पब्लिक स्कूल की शिक्षा के बाद बेंगलुरु विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री हासिल करने के बाद उन्होंने सेना में जाने के लिए तैयारी शुरू कर दी और इनका सिलेक्शन एसएसबी (सर्विस सिलेक्शन बोर्ड) में हो गया। जिसके बाद उनका सपना पूरा हुआ। दिवाकर की मां नगीना देवी इनके लेफ्टिनेंट बनने से काफी खुश है। साथ ही क्षेत्र के लोग भी इनके घर बधाई देने पहुंच रहे हैं।