गृहमंत्री अमित शाह ने हैदराबाद रोड शो में रोहिंग्या को लेकर दिया बड़ा बयान

0
156

प्रखर एजेंसी। हैदराबाद निकाय चुनाव में जीत हासिल करने को लेकर बीजेपी ने पूरी ताकत झोंक दी है। एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी के गढ़ में रविवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रोड शो कर जीत दर्ज करने का भी दावा किया। गृहमंत्री अमित शाह ने रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि रोहिंग्या मुसलमानों पर जब वह कार्रवाई करते हैं तो ये लोग (विपक्षी दल) हायतौबा करते हैं। उन्होंने कहा कि विपक्षी दल एक बार लिखकर दें कि बांग्लादेशी और रोहिंग्या को निकाल दें, फिर मैं कुछ करता हूं। उन्होंने टीआरएस और मजलिस पर इस दौरान जमकर निशाना साधा। अमित शाह ने कहा कि टीआरएस और मजलिस के बीच गुप्त समझौता है लेकिन मुझे समझौते से दिक्कत नहीं है। दिक्कत है कि वे यह छिपकर क्यों करते हैं। कमरे में इलू-इलू करते हैं। खुलेआम क्यों नहीं कह देते कि हां, मजलिस के साथ हमारा रिश्ता है। उन्होंने कहा कि सरदार पटेल के कारण हैदराबाद और आसपास के इलाके भारत के साथ जुड़े लेकिन जिन्होंने उस दौरान पाकिस्तान जाने की मुहिम चलाई थी ऐसी निजाम संस्कृति से हम हैदराबाद को निजात दिलाना चाहते हैं। शाह ने राजनीतिक पार्टियों में परिवारवाद पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि वह हैदराबाद को नवाब-निजाम कल्चर से मुक्त कराते हुए इसे आधुनिक शहर बनाना चाहते हैं। हैदराबाद को डाइनेस्टी से डेमोक्रेसी की ओर ले जाना चाहते हैं। भ्रष्टाचार से पारदर्शिता की ओर ले जाना चाहते हैं। तुष्टिकरण से विकास की ओर ले जाना चाहते हैं। हैदराबाद का एक बड़ा हिस्सा है, जो खुद को अपमानित महसूस करता है। हम ऐसी व्यवस्था बनाना चाहते हैं कि किसी की भी हिम्मत नहीं होगी, उन्हें दोयम दर्जे का बनाए। हैदराबाद निकाय चुनाव के लिए उतरे बीजेपी के दिग्गज नेताओं पर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी तंज भी कस चुके हैं। ओवैसी ने कहा था कि यह चुनाव हैदराबाद निकाय का न होकर प्रधानमंत्री का हो गया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने इस चुनाव में इतने नेताओं को बुलाया है, अब बस डोनाल्ड ट्रंप का आना ही बाकी रह गया है। वह भी आ जाएं तो भी कुछ नहीं होगा, क्योंकि उनका भी हाथ थामकर पीएम मोदी ने कहा था कि अबकी बार ट्रंप सरकार लेकिन वह भी नहीं बचे और गड्ढे में गिर गए।