फर्जी पासपोर्ट व अन्य दस्तावेज बनाने वालों पर बडी कार्रवाई, 5 अवैध बंग्लादेशी नागरिकों सहित 8 गिरफ्तार

0
116

बांग्लादेशी नागरिकों को नकली भारतीय पहचान पत्र दिलवाता था

प्रखर मुंबई/एजेंसी। मुंबई एटीएस अवैध बांग्लादेशी नागरिकों की समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए बड़ा अभियान चलाया है। इसके तहत सबसे पहले उन लोगों पर शिकंजा कसा जा रहा है, जोकि इन अवैध नागरिकों का फर्जी दस्तावेज बनाते है। मुंबई एटीएस को गुप्त जानकारी मिली थी कि बांग्लादेशी नागरिक अकरम खान मुंबई में अवैध रुप से आए बांग्लादेशी नागरिकों को नकली भारतीय पहचान पत्र दिलवाता है। इसके बाद एटीएस ने जाल बिछाया और मुंबई के शीवड़ी इलाके से अकरम को गिरफ्तार कर लिया। प्राथमिक पूछताछ में पता चला कि 28 वर्षीय अकरम नूर नबी ओलाउद्दीन शेख, बांग्लादेश के नोवोखली जिले का रहने वाला है और अवैध रूप से देश में दाखिल हुआ था। उसकी भारतीय नागरिकता का दस्तावेज बनाने में वडाला निवासी नोर्नाबी और कौसा, मुंब्रा, निवासी रफीक शेख ने मदद की। अकरम को जाली आधार कार्ड, पैन कार्ड और उसका भारतीय पासपोर्ट इन लोगों ने बनाया। एटीएस की पूछताछ में रफीक ने कबूल किया कि वो नकली दस्तावेज तैयार करने में लिप्त है और 2013 के बाद से कई अवैध बांग्लादेशियो के पासपोर्ट तैयार किए हैं, वो कम से कम 85 लोगों का नकली भारतीय नागरिकता का पहचान पत्र अभी तक बना चुका है, जिसमें पैन कार्ड, आधार कार्ड, वोटर आइडी कार्ड, राशन कार्ड, बिजली बिल,स्कूल छोड़ने का प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र, बैंक पासबुक पासपोर्ट के साथ ही लगने वाले हर तरह के प्रमाण पत्र शामिल हैं। पूछताछ में एक आरोपी इदरीस मोहम्मद की भूमिका का पता चला वो मुंबई के एंटॉप हिल निवासी एविन गंगाराम केडारे के साथ मिलकर नकली रबर स्टैम्प तैयार करता था, जो नकली दस्तावेज बनाने के लिए जरूरी थी। इसके बाद इस मामले में नवी मुंबई तलोजा निवासी नितिन राजाराम निकम की भूमिका सामने आई है, जोकि बैंक पासबुक और वोटर आई कार्ड बनाने में मास्टर है। इनके साथ ही अवैध बंग्लादेशी अकरम नूरनबी, ओलाउद्दीन खान, मो सोहिल अब्दुल सुभान शेख, अब्दुल खैर संसुल, अबुल हशम उर्फ अबुल कशम शेख, को भी अवैध रूप से भारत में प्रवेश करने के लिए गिरफ्तार किया गया है। उनके उपर बिना वैध दस्तावेजों के देश में निवास करने का आरोप है। उनके कब्जे से नकली पहचान पत्र और पासपोर्ट जब्त किया गया है। इनके पास से नकली भारतीय पासपोर्ट, आधार कार्ड, पैन कार्ड, मोटर ड्राइविंग लाइसेंस,पासबुक, कई बैंकों की चेक बुक, बांग्लादेशी मुद्रा, मोबाइल फोन, बांग्लादेशी सिम कार्ड, भारतीय सिम कार्ड, एटीएम कार्ड, बांग्लादेशी विजिटिंग कार्ड और लाखों का कैश बरामद हुआ है। आरोपियों में अकरम शेख, मोहम्मद रफीक शेख, अविन केदारे, सोहेल शेख, अब्दुल खैर शेख,
अब्दुल हाशम शेख, इदरीस मोहम्मद शेख व नितिन निकम शमिल है।