गणतंत्र दिवस परेड के मुख्य अतिथि होंगे ब्रिटेन के पीएम बोरिश जॉनसन, स्‍वीकारा भारत का निमंत्रण

प्रखर एजेंसीं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन जनवरी 2021 में भारत के वार्षिक गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि होंगे, यूनाइटेड किंगडम ने पुष्टि की है। नई दिल्ली में विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ वार्ता के दौरान यूके के विदेश सचिव डॉमिनिक रैब ने पुष्टि की कि पीएम जॉनसन ने अगले महीने गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि के रूप में भारत के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है। विदेश सचिव रैब ने कहा, “मुझे खुशी है कि पीएम बोरिस जॉनसन ने पीएम मोदी को अगले साल यूके-होस्ट जी7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया है। यूके के पीएम जॉनसन ने जनवरी में भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में भाग लेने के लिए निमंत्रण भी स्वीकार किया है, जो एक बड़ा सम्मान है।“ जयशंकर ने कहा कि जॉनसन भारत के गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने के लिए भारत-ब्रिटेन संबंधों में एक नए युग की शुरुआत करेगा। उन्‍होंने ने कहा, ष्गणतंत्र दिवस 2021 में मुख्य अतिथि के रूप में पीएम बोरिस जॉनसन की मौजूदगी एक तरह से नए युग का प्रतीक होगी। इस महीने की शुरुआत में अटकलें थीं कि भारत सरकार ने जॉनसन को नई दिल्ली में 2021 गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया था। हालांकि, दोनों पक्षों में से किसी ने भी इसकी पुष्टि नहीं की थी। ब्रिटिश उच्चायोग ने निमंत्रण की पुष्टि या इनकार करने से मना करते हुए कहा था कि जॉनसन भारत का दौरा करने के इच्छुक हैं। ब्रिटिश उच्चायोग के प्रवक्ता ने कहा, ष्पीएम बोरिस जॉनसन जल्द से जल्द भारत आने के इच्छुक हैं। इससे पहले यह बताया गया था कि 2021 के गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि के रूप में आने का निमंत्रण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पीएम जॉनसन को पिछले महीने के अंत में टेलीफोन पर बातचीत के दौरान दिया गया था। इसी कॉल के दौरान यूके के पीएम ने अगले साल ब्रिटेन में जी-7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए पीएम मोदी को आमंत्रित किया था। पीएम मोदी ने जॉनसन से फोन पर बात करने के बाद कहा था कि उन्होंने अपने दोस्त और यूके के समकक्ष के साथ शानदार बातचीत की है। दोनों नेताओं ने अगले दशक में भारत-ब्रिटेन संबंधों के रोडमैप पर चर्चा की। पीएम मोदी ने ट्वीट किया था, ष्हम सभी क्षेत्रों में हमारे सहयोग में एक क्वांटम छलांग पर काम करने के लिए सहमत हुए – व्यापार और निवेश, रक्षा और सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन और कोविड-19 से लड़ते हुए। बता दें कि जॉन मेजर अंतिम ब्रिटिश पीएम थे, जिन्होंने 1993 में भारत के वार्षिक गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि के रूप में भाग लिया था।