सिंघु बार्डर पर किसान आंदोलन में शामिल संत बाबा राम सिंह ने खुद को मारी गोली मौत

0
229

खुदकुशी के बाद सुसाइड नोट भी बरामद

प्रखर एजेंसी। सिंघु बार्डर पर धरने में शामिल एक संत बाबा राम सिंह ने बुधवार को खुद को गोली मार ली। गोली लगने से उनकी मौत हो गई। घायल अवस्था में उन्हें एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां पर चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। बाबा राम सिंह करनाल के रहने वाले हैं। उनका एक सुइसाइड नोट भी सामने आया है, जिसमें उन्होंने किसान आंदोलन का जिक्र करते हुए उनके हक के लिए आवाज बुलंद की है। सुसाइड नोट का हिंदी अनुवाद किसानों का दुख देखा है अपने हक के लिए । सड़कों पर उन्हें देखकर मुझे दुख हुआ है सरकार इन्हें न्याय नहीं दे रही है जो कि जुल्म है जो जुल्म करता है वह पापी है जुल्म सहना भी पाप है किसी ने किसानों के हक के लिए तो किसी ने जुल्म के खिलाफ कुछ किया है किसी ने पुरस्कार वापस करके अपना गुस्सा जताया है किसानों के हक के लिए, सरकारी जुल्म के गुस्से के बीच सेवादार आत्मदाह करता है यह जुल्म के खिलाफ आवाज है यह किसानों के हक के लिए आवाज है वाहे गुरु जी का खालसा, वाहे गुरुजी की फतेह।