मोदी के भाई पर दर्ज हुई एफआईआर

प्रखर डेस्क। भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के भाई नेहल मोदी पर अब न्यूयॉर्क में धोखाधड़ी का गंभीर आरोप लगा है. नेहल मोदी पर दुनिया की सबसे बड़ी हीरा कंपनियों में से एक के साथ मल्टीलेयर्ड स्कीम के जरिए 2.6 मिलियन डॉलर (19 करोड़ रुपये से ज्यादा) की धोखाधड़ी करने का आरोप लगा है. दरअसल, नेहल मोदी पर मैनहट्टन की एक डायमंड होलसेल कंपनी से 2.6 मिलियन डॉलर से अधिक मूल्य के हीरे लेने के लिए सुप्रीम कोर्ट में फर्स्ट डिग्री में बड़ी चोरी का आरोप लगा है. अब नेहल मोदी को न्यूयॉर्क के सुप्रीम कोर्ट में मुकदमे का सामना करना पड़ेगा। न्यूयॉर्क के कानूनों के तहत पहली डिग्री में बड़ी चोरी के अपराध से मतलब 1 मिलियन डॉलर से अधिक की चोरी है. इस धोखाधड़ी की शुरुआत साल 2015 से होती है, जब नेहल मोदी ने एक कंपनी के साथ मिलकर फेक प्रेजेंटेशन करने के लिए करीब 2.6 मिलियन डॉलर के हीरे स्स्क् डायमंड्स यूएसए से लिए थे. प्रोसीक्यूशन की मानें तो मार्च 2015 में नेहल मोदी ने करीब 8,00,000 डॉलर मूल्य के हीरे देने के लिए कहा और दावा किया कि वह उन्हें कॉस्टको होलसेल कॉर्पोरेशन नाम की कंपनी को बिक्री के लिए दिखाएगा. कॉस्टको एक चेन है जो अपने सदस्यों के रूप में जुड़ने वाले ग्राहकों को कम कीमत पर हीरे बेचती है. बता दें कि नेहल मोदी पंजाब नेशनल बैंक से जुड़े 13,500 करोड़ रुपये (लगभग 1.9 बिलियन डॉलर) की धोखाधड़ी का मामला है. भारत लगातार नेहल को भारत वापस लाने में जुटा है. भारत के अनुरोध पर इंटरपोल ने नेहल के खिलाफ एक रेड नोटिस भी जारी कर दिया है. हालांकि अभी नेहल का प्रत्यर्पण लंबित है।