ग़ाज़ीपुर- “सबका साथ हो, गंगा साफ हो” इस उद्देश्य के साथ लहुरी काशी पंहुची अतुल्य गंगा मुंडमाला परिक्रमा पदयात्रा

0
164

प्रखर ब्यूरो गाजीपुर। अतुल्य गंगा मुंडमाला परिक्रमा पदयात्रा मंगलवार को प्रयागराज से काशी होकर “सबका साथ हो, गंगा साफ हो” इस उद्देश्य के साथ लहुरी काशी में नवापुरा स्थित श्री दुर्गा साईं मंदिर पर पहुंचा। यहां पर स्वामी सहजानंद महाविद्यालय की 92 यूपी एनसीसी इकाई ने यात्रा का भव्य स्वागत किया। इस मौके पर 92 यूपी बटालियन के एडम कर्नल ओपी राय ने कहा कि पवित्र गंगा देश की करीब 50 करोड़ से ज्यादा आबादी के लिए अभी भी जीवनदायिनी है और दुनिया के हर बारहवें इंसान की जिंदगी यही गुजरती है। फिर भी इंसानों की वजह से हुई इसकी दुर्गति को दूर करने के लिए अतुल्य गंगा के नाम से 15 दिसंबर से एक ऐतिहासिक पदयात्रा शुरू की गई है। बटालियन के सीओ कर्नल सुगंध शर्मा ने बताया कि अतुल्य गंगा अभियान तीन आधार परिक्रमा, प्रदूषण और जनता पर खड़ा है। परिक्रमा के तहत प्रकृति रोमांच संस्कृति पौराणिक कथाओं और इतिहास को अनूठे तौर पर समझने की कोशिश की जा रही है। महाविद्यालय के एनसीसी अधिकारी डा. विलोक सिंह ने बताया कि इस अभियान का दूसरा और महत्वपूर्ण स्तंभ है प्रदूषण, जिसने गंगा को गम्भीर रूप से प्रदूषित कर रखा है। इंडस्ट्रियल और सीवेज वेस्ट का इसमें गिराया जाना एक कड़वी सच्चाई है, जिस पर तत्काल कार्य करने की जरूरत है। अतुल्य गंगा एक जन आंदोलन है, जो इस साल 15 दिसंबर से शुरू होकर 10 अगस्त 2021 तक चलाया जाने वाला है। डा. प्रमोद कुमार ‘अनंग’ ने बताया कि वैसे यह 11 साल का प्रोजेक्ट है, जो दो पंच वर्षीय योजनाओं के साथ 2020 से 2030 तक चलेगा। इस पद यात्रा के दौरान हर 5 किलोमीटर पर गंगा जल भूजल और मिट्टी के सैंपल की टेस्टिंग की जाएगी। इस दौरान रास्ते में बरगद, नीम और पीपल के पौधे भी लगाए जाएंगे।
यात्रा का स्वागत करने के लिए मंदिर पर पहुंचे महाविद्यालय के एनसीसी कैडेट्स ने निर्मल यात्रा के सम्मानित प्रतिनिधियों का सेल्यूट कर अभिनंदन किया। माल्यार्पण-करतल ध्वनियों से यात्रियों का स्वागत हुआ। देवी गंगा की जय-जयकार से वातावरण गूंज उठा।
कार्यक्रम को सफल बनाने में पीआई नायक कुल बहादुर अधिकारी, नायब सूबेदार सीबी राणा, नायब सूबेदार दीनदयाल, हवलदार मेजर धर्मेंद्र, हवलदार योगेंद्र सिंह की महती भूमिका रही।