ग़ाज़ीपुर- प्रधान के आवास पर दर्जनों की संख्या में आक्रोशित महिलाओं व पुरुषो ने किया धरना-प्रदर्शन

0
360

प्रखर ब्यूरो गाजीपुर। ग्राम पंचायतों के खाता सीज होने के साथ ही बहरियाबाद कस्बा के ग्राम पंचायत चकफरीद के ग्राम प्रधान के नव निर्मित आवास पर शुक्रवार की सुबह लगभग नौ बजे दर्जनों की संख्या में आक्रोशित महिलाएं व पुरुष पहुंचे। आवास, शौचालय, पेंशन व मनरेगा आदि में धांधली एवं धन उगाही का आरोप लगाते हुए धरने पर बैठ गए। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। लगभग चार घंटा घेराव के बाद ग्राम प्रधान द्वारा एक माह के अंदर पैसा वापस करने का लिखित आश्वासन देने पर सभी वापस लौटे। 
ग्राम प्रधान के आवास पर पहुंची गांव निवासी शीला मौर्य, सुनीता चौहान, रीना देवी, राधिका, सरिता, भगवानी देवी, रामजन्म, विमला, तेतरी, सोनू सोनकर, लीलावती, सविता, अजीत आदि ने आरोप लगाया कि आवास के नाम पर 5 से 12 हजार रुपया तक धन उगाही की गई। बावजूद इसके आज तक आवास नहीं मिला। सुरेन्द्र, आकाश, मुन्ना, हिमालय, मोती, जितेन्द्र, सचिन, संदीप, सुनील, रामबली, छोटे लाल, ईश्वर, गोविन्द, गोपी आदि ने मनरेगा के तहत किए गए कार्यों का भुगतान न देने का आरोप लगाया। लीलावती, भोला राम, दिलवरी, नेसार सहित दर्जनों लोगों ने शौचालय निर्माण का धन आहरित होने के बावजूद शौचालय निर्माण न कराए जाने का आरोप लगाया। हऊदवा बस्ती निवासी रामा राम ने आरोप लगाया कि ग्राम प्रधान द्वारा गांव में खड़ंजा लगाने के दौरान उनके दरवाजे पर रखे एक ट्रैक्टर ईंट खडंजा में प्रयोग कर लिया गया। महीनों बीत जाने के बाद भी आज तक न तो उनकी ईंट वापस की गई और न ही उसकी कीमत अदा की गई। धरना-प्रदर्शन की सूचना पर एस.आई. होरिल यादव पुलिस कर्मियो के साथ मौके पर पहुंचे तथा धरनारत लोगों का ग्राम प्रधान से वार्ता कराया। ग्राम प्रधान द्वारा पैसा वापस करने का लिखित आश्वासन देने के बाद प्रदर्शन हुआ।