प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों से की आंदोलन खत्‍म करने की अपील

0
210

पीएम ने एक बटन दबाकर नौ करोड़ किसान लाभार्थियों के खातों में 18 हजार करोड़ रुपये ट्रांसफर किए

प्रखर नई दिल्‍ली/एजेंसी। पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत किसानों के लिए अगली किस्त जारी की। पीएम ने एक बटन दबाकर नौ करोड़ किसान लाभार्थियों के खातों में 18 हजार करोड़ रुपये ट्रांसफर किए। इस योजना के तहत हर साल तीन किस्तों में किसानों के खातों में 6,000 रुपये भेजे जाते हैं। किसानों के खाते में दो-दो हजार रुपये की राशि तीन किस्तों में भेजी जाती है। इसके साथ ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से छह राज्यों के नौ करोड़ से अधिक किसानों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों से भी आंदोलन को खत्‍म कर सरकार से बातचीत करने की अपील की। 30 दिन से चल रहे आंदोलन को पीएम मोदी ने खत्म करने की अपील करते हुए कहा कि हम किसानों से हर चर्चा करने के लिए तैयार हैं, पर राजनीतिक कारणों से चर्चा नहीं हो पा रही है। किसानों का भरोसा हम नहीं तोड़ेंगे। तथ्यों और तर्कों पर हम विरोधियों से भी बातचीत को तैयार हैं। कृषि बिल पर पीएम मोदी ने फिर एक बार भ्रम दूर किए। पीएम मोदी ने कहा कि नए कानूनों के लागू होने के बाद भी डैच्, मंडी, मंडी के बाहर फसल बेचने का अधिकार है। पीएम ने कहा कि ना डैच् खत्म होगी, ना मंडियां बंद होंगी। कानून को लागू हुए कई महीने बीत चुके हैं, अबतक कोई मंडी नहीं हुई। किसान आंदोलन को लेकर विपक्ष पर बरसे पीएम मोदी ने कहा, जिन्हें जनता ने नकार दिया वो लोग इवेंट मैनेजमेंट करके अपनी राजनीति चमका रहे है। किसानों के नाम पर झंडे लेकर खेल खेला जा रहा है, अब उनको सच सुनना होगा। देश का किसान विपक्ष को पहचान गया है। निर्दोष किसानों की जिंदगी के साथ विपक्ष न खेले। पीएम मोदी ने विपक्ष पर करारा प्रहार किया और कहा, श्पुरानी सरकार की नीतियों की वजह से देश की कृषि और किसान का उतना विकास नहीं हो पाया, जितना उसमें सामर्थ्य था। पहले की सरकारों की नीतियों की वजह से सबसे ज्यादा बर्बाद छोटा किसान हुआ। ममता बनर्जी पर प्रधानमंत्री मोदी ने निशाना साधते हुए कहा, पश्चिम बंगाल के 70 लाख से अधिक किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। बंगाल की सरकार के राजनीतिक कारणों से किसानों को पैसे नहीं मिल रहे हैं। जो लोग 30 साल तक बंगाल में राज करते थे, उन्होंने बंगाल की क्या हालत करके रख दी है, ये सारा देश जानता है।