जांच अधिकारी ने धान घोटाला किया स्वीकार!

0
42

प्रखर डेस्क। चंदौली धान घोटाला मामले में एक नया मोड़ सामने आया है बता दें कि आईजीआरएस से मिली जानकारी के अनुसार जिला खाद्य विपणन अधिकारी ने पत्र में यह स्वीकार किया है कि धान की ढूलाई में अनियमितता पाई गई है। बतादे कि जिला खाद्य विपणन अधिकारी चंदौली ने चहनिया केंद्र के धान घोटाले की जांच आख्या में बताया कि दिनांक 02.01.2021 को ट्रक संख्या UP62T-2078 ने कोई भी धान की ढूलाई नहीं की है। अगले कार्य दिवस में सिर्फ दो बार ही धान की ढूलाई की बात स्वीकार की है। जबकि लिखा पढ़ी में एक ही दिन (02.01.2021) में चार चक्कर धान ढूलाई की बात शिकायतकर्ता ने ऑनलाइन डेली ट्रांजैक्शन सिस्टम रिपोर्ट के आधार पर की थी। आखिर अंत में जिला खाद्य विपणन अधिकारी चंदौली ने स्वीकार किया कि चहनिया केंद्र पर धान परिवहन में घोटाला हुआ है। और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए शासन में रिपोर्ट भी भेज दी है। अब बड़ा सवाल यह है कि डीटीएस पर चार बार ढूलाई का रिपोर्ट दिया गया है। जिसके आधार पर विभागीय बिल का भुगतान ठेकेदार को किया गया। तो वही बड़ा सवाल यह उठता है कि अगर चार बार ठेकेदार को भुगतान किया गया तो जिला खाद्य विपणन अधिकारी आखिरकार दो बार क्यों स्वीकार किए? बाकी दो बार ढूलाई का धान कहां गया यह बड़े जांच का विषय है? इससे साफ जाहिर हो रहा है कि जिला खाद्य विपणन अधिकारी संबंधित ठेकेदार को पूरी तरह से बचाने का प्रयास कर रहे हैं।