ग़ाज़ीपुर- ग्राम प्रधानों का शोषण-उत्पीड़न किसी भी हाल में बर्दास्त नहीं किया जाएगा- प्रदेश अध्यक्ष

0
41

प्रखर ब्यूरो गाजीपुर। ग्राम प्रधानों का शोषण-उत्पीड़न किसी भी हाल में बर्दास्त नहीं किया जाएगा। अपने हक-अधिकार की लड़ाई मजबूती से लड़ते हुए जीत हासिल की जाएगी। जो भी अधिकारी या अन्य कोई उत्पीड़न करेगा, उसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। यह बातें नगर के खजुरिया स्थित एक पैलेस में गुरुवार को आयोजित अखिल भारतीय प्रधान संगठन की वार्षिक सम्मेलन में मुख्य अतिथि प्रदेश अध्यक्ष रामसेवक यादव ने कहीं।
प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानों को प्रदेश सरकार द्वारा पंचायत सहायक कंप्यूटर डाटा आपरेटर की ग्राम पंचायरवार नियुक्ति की जा रही है, लेकिन जनपद के छोटे ग्राम पंचायतों में कम धनराशि उपलब्ध होने के कारण मानदेय देना मुश्किल होगा और सामुदायिक शौचालयों की देख-रेख के लिए महिलाओं से की जाने वाली नीतियों का स्वागत तो किया जा रहा है, लेकिन धनाभाव के कारण इनका भी मानदेय नहीं मिल पा रहा है। इसकी वजह से विकास में बांधा आ रही है। उन्होंने कहा कि निर्माण सामग्री के दाम आसमान छू रहे हैं, जो निर्धारित रेट से कम पर मिलना चाहिए। ग्राम पंचायतों अवैध तरीके से सरकारी भूमि पर भू माफियाओं द्वारा कब्जा किया गया है, जिस पर पंचायत भवन और सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराना है, लेकिन जिला प्रशासन अवैध कब्जे को खाली कराने में असफल नजर आ रहा है। आगे उन्होंने कहा कि एमएलसी चुनाव आने वाले है। इस बार प्रधान सोच-समझकर अपने मत का प्रयोग करें। आप एमएलसी के रूप में उसी का चुनाव करें, जिसकी सोच आपके हित की हो और वह प्रधानों की समस्याओं को सदन तक पहुंचाने का माद्दा रखता हो। पूर्व ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि शशिपाल सिंह घूरा ने कहा कि ग्राम प्रधानों की हर लड़ाई मेरी लड़ाई है। आप लोगों को जब भी मेरी जरूर पड़े, मैं आपके साथ खड़ा मिलूंगा। जिला प्रभारी डा. एम खालिद ने कहा कि यदि जिला प्रशासन प्रधानों का शोषण करना बंद नहीं करता है तो उग्र आंदोलन होगा। प्रधानों को पंचायत राज एक्ट में तय व्यवस्था के तहत जिला प्रशासन द्वारा कार्य नहीं करने दिया जा रहा है। इसको किसी भी हाल में बर्दास्त नहीं किया जाएगा। मंडल अध्यक्ष भयंकर यादव ने कहा कि ग्राम पंचायत स्तर के कर्मचारी सप्ताह में एक दिन ग्राम पंचायतों में उपस्थित हो ताकि गांव की जनता की समस्याओं से उन्हें अवगत कराया जा सके। आगे उन्होंने कहा कि सचिव और जेई द्वारा कमीशनखोरी बंद किया जाए। जौनपुर के जिलाध्यक्ष कमलेश कुमार ने कहा कि प्रधान अपने अधिकार को जाने। यदि हम अपने अधिकारों को जानेंगे, तभी अधिकारी या अन्य किसी से सवाल-जवाब कर सकते हैं। हमें संगठन को इस कदर मजबूत बनाना होगा कि हमारा शोषण-उत्पीड़न करने में किसी को भी एक बार सोचना पड़े।

इस अवसर पर एसपी सिटी गोपीनाथ सोनी, पीडी बालगोविंद शुक्ला, बिरनो ब्लाक प्रमुख राजन सिंह, जौनपुर के राय साहब यादव, एमएलसी प्रतिनिधि पप्पू सिंह, गोपाल सिंह, सत्यपाल, सुशील यादव, बालकृष्ण यादव, मऊ के डा. देवेंद्र चौहान, रामाश्रय मौर्या, पवन यादव, आकाश राजभर, संजय राय उर्फ मंटू, रविंद्र यादव, विनोद गुप्ता, सुभाष यादव, हरेंद्र विश्वकर्मा, आजाद खान, बलवंत सिंह, हीरामणि चौहान, रामाशीष यादव, जिला मीडिया प्रभारी कमलेश यादव सहित सैकड़ों ग्राम प्रधान मौजूद थे। अध्यक्षता सदर ब्लाक अध्यक्ष बसावन बिंद तथा संचालन आकाश राजभर ने किया।