तीन सगी बहनों ने ट्रेन के सामने कूदकर दी जान, आर्थिक तंगी बनी वजह

प्रखर जौनपुर। शुक्रवार की सुबह तीन सगी बहनों ने ट्रेन के सामने कूदकर खुदकुशी जान दे दी। हादसे की सूचना पर जीआरपी मौके पर पहुंची और शव को कब्जे लेकर मामले की छानबीन में जुट गई। बतादे कि जफराबाद-सुल्तानपुर रेल प्रखण्ड के फत्तूपुर बदलापुर गांव के पास आज सुबह वाराणसी से लखनऊ की ओर जा रही जनसाधारण एक्सप्रेस ट्रेन के सामने तीन बहनें कूद गईं। तीनों की उम्र 11, 14 व 16 वर्ष के आसपास बताई जा रही है। चर्चा है कि आर्थिक तंगी के चलते तीनों ने खुदकुशी की है लेकिन अभी कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। पुलिस और जीआरपी टीम मामले की छानबीन में जुटी है। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि 9 साल पहले इन लड़कियों के पिता की मौत हो चुकी है. जबकि मां आशा देवी दोनों आंख से अंधी है। घटना बदलापुर क्षेत्र फत्तूपुर गांव की है। मिली जानकारी के मुताबिक आशा देवी पत्नी स्व राजेन्द्र गौतम निवासिनी ग्राम अहिरौली पुलिस चौकी राजा बाजार थाना महराजगंज जौनपुर कि 5 पुत्रियां व एक पुत्र है। जिसमें बड़ी लड़की रेनु देवी की शादी हो चुकी है। ज्योति जो अपने फुफा के घर रहती है और इकलौता भाई गणेश गौतम मजदूरी का काम करता है।