बाढ़ पीड़ितों के मुआवजे का पैसा पटवारियों द्वारा बंदरबांट करने का मामला आया सामने


प्रखर दानगंज वाराणसी। सरकार द्वारा लोगो के बेहतरी के लिए जो भी योजना किसानों या किसी अन्य के लिए बनाई जाती है, उसमें बंदरबांट करने वाले अपना रास्ता निकाल ही लेते हैं। चाहे छोटी हो या बड़ी या सरकार द्वारा पैसा खाते में दिया जाए या नकद भ्रष्टाचार करने वाले अपना रास्ता निकाल ही लेते हैं। नया मामला चोलापुर के भदवा गांव का बताया जाता है, स्थानीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यहाँ पर कुछ लोगों को लालच देकर कि आपके खाते मे पैसा डाल कर बैक डोर से ₹2000 हजार पटवारी धन उगाही किए हैं। जिन लोगों का जमीन बाढ़ से डूब गई थी उन कुछ लोगों के खाते में पैसे आए ₹1000 कुछ को वो भी नहीं आए जिन लोगों का जमीन बाढ़ में नहीं डूबा उसके खाता में भी 11000- ₹11000 हजार रुपये ट्रांसफर किए गए हैं। सूत्रों का कहना है कि अगर इसकी जांच हो तो पूरा खुलासा हो जाएगा। गांव वालों का आरोप है कि इसमें लेखपाल के द्वारा सब खेल किया गया है, जो किसान लेखपाल को पैसा देने से इंकार कर गए उनके खाते में पैसा आया ही नहीं। वही जिन किसानों का 60 से 65 बिस्सा फसल नुकसान हुआ उनको एक हजार रुपया मिला है। जिसका एक भी बिस्सा फसल नुकसान नही हुआ उसको 10000 हजार मिला है। प्रखर पूर्वांचल के रिपोर्टर राहुल चौबे जब गांव में गए तो गांव वालों ने कैमरे पर बोलने से इंकार कर दिया। अब देखना है कि इस मामले में आला अधिकारी किस प्रकार से संज्ञान लेते हैं और क्या कार्रवाई करते हैं।