यूपी विधानसभा चुनाव! आजमगढ़ में जहरीली शराब से 5 की मौत 41 भर्ती, सपा के बाहुबली नेता रमाकांत यादव से जुड़ रहा कनेक्शन

0
149

जिलाधिकारी ने चुनाव आयोग की लिखी चिट्ठी

3 की हालत गंभीर, साथ ही कई अधिकारी निलंबित

प्रखर आजमगढ़। यूपी विधानसभा चुनाव के दौरान आजमगढ़ में जहरीली शराब पीने के बाद पांच लोगों की मौत से हड़कंप मच गया है. वहीं, इस वक्‍त 41 लोग कई अस्‍पतालों में भर्ती हैं, जिनमें से 2 से 3 मरीजों की गंभीर हालत है. जबकि इस मामले को लेकर आबकारी विभाग ने अपने तीन अधिकारियों और कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है. इसमें आजमगढ़ के निरीक्षक नीरज सिंह के अलावा आबकारी आरक्षक सुमन कुमार पांडे और राजेंद्र प्रताप सिंह शामिल हैं. इसके साथ आबकारी ने विभागीय जांच शुरू होने की बात कही है। बतादे कि मामला आजमगढ़ के अहरौला थाना क्षेत्र के माहुल कस्बे का है. वहीं, इस घटना में सपा के दिग्‍गज नेता बाहुबली रमाकांत यादव का कनेक्‍शन भी सामने आया है. दरअसल रविवार को जिस सरकारी ठेके से लोगों ने देसी शराब खरीदी थी उसका मालिक रंजेश यादव है। ग्रामीणों के मुताबिक, आरोपी समाजवादी पार्टी के बाहुबली रमाकांत यादव को नाना कहता है। दरअसल सरकारी ठेके का अनुज्ञापी रंगेश यादव सपा के बाहुबली नेता की बहन की बेटी का बेटा है। इस बार सपा ने बाहुबली रमाकांत यादव को फूलपुर पवई से अपना प्रत्याशी बनाया है. यही नहीं, ग्रामीण खुलेआम इस घटना का आरोप रमाकांत यादव पर लगा रहे हैं. इसके अलावा वह प्रदर्शन भी कर रहे हैं। वहीं, आजमगढ़ शराबकांड को लेकर जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी और पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य ने चुनाव आयोग को पत्र लिखते हुए आबकारी विभाग पर सवाल उठाए थे। वहीं, जहरीली शराब पीने के बाद देर रात लोगों की तबीयत खराब होने की बात चली. इसके बाद लोग रातभर तबीयत खराब होने वालों को अस्‍पताल ले जाते रहे. मृतकों के परिजनों के मुताबिक, सभी लोगों ने माहुल कस्‍बे की ही एक देसी शराब की दुकान से शराब खरीदकर पी थी, लेकिन इसके बाद लोगों की तबीयत खराब होने लगी. इसके बाद लोगों को अस्‍पताल ले जाया गया, लेकिन पांच लोगों ने दम तोड़ दिया है. ग्रामीणों के मुताबिक, अब तक दस से अधिक लोगों की मौत हो चकी है. जबकि मृतकों के परिवार में मातम पसरा हुआ है. मृतकों के परिजनों का कहना है कि प्रशासन की लापरवाही से जहरीली शराब की क्षेत्र में बिकी हो रही है. प्रशासन को दोषियों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई करनी चाहिए।