बीजेपी निषाद पार्टी के विधायक की विधायकी खतरे में? कद्दावर नेता ललई यादव ने दी चुनौती, अब हाईकोर्ट ने मांगा जवाब


प्रखर जौनपुर। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता शाहगंज से पूर्व विधायक शैलेन्द्र यादव ललई ने शाहगंज के निषाद पार्टी एवं भाजपा गठबंधन विधायक रमेश सिंह के चुनाव को हाईकोर्ट में चुनौती दी है। उनपर चुनाव के दौरान हलफनामे में कई जानकारियां छुपाने का आरोप लगाया है। कोर्ट ने विधायक रमेश सिंह से साक्ष्य सहित जवाब मांगा है। और कहा है कि यदि विपक्षी अपना जवाब दाखिल कर हाजिर नहीं होता तो उस दिन याचिका तय कर दी जाएगी।विधानसभा चुनाव में शाहगंज विधानसभा से समाजवादी पार्टी प्रत्याशी रहे पूर्व विधायक शैलेन्द्र यादव ललई की चुनाव याचिका पर हाई कोर्ट ने निषाद पार्टी विधायक रमेश सिंह को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। याचिका की सुनवाई 18 जुलाई को होगी। यह आदेश न्यायमूर्ति सरल श्रीवास्तव ने दिया है। याचिका पर वरिष्ठ अधिवक्ता सनोज यादव ने बहस की। कोर्ट ने पंजीकृत डाक सहित में नोटिस प्रकाशित करने का निर्देश दिया है।

आपराधिक मामलों की जानकारी छिपाई

याचिका पर वरिष्ठ अधिवक्ता अनिल शर्मा एवं अधिवक्ता सरोज कुमार यादव ने बहस की। इनका कहना है कि विपक्षी विधायक सिंह ने चुनाव अधिकारी को दिए हलफनामे में अपने खिलाफ दर्ज कई आपराधिक धारा मामलों की जानकारी छिपाई है। जो जनप्रतिनिधित्व अधिनियम के उपबंधों का उल्लंघन है। यह भी आरोप है कि रमेश सिंह नें अपने पत्नी का इनकम पिछले वर्ष जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में और विधान सभा चुनाव में भिन्न जानकारी दी गई है। जो करप्ट प्रैक्टिस की श्रेणी में आता है। और आरोप लगाया गया कि वोटिंग के दौरान 3 हजार से अधिक लोगों को वोट देने से वंचित किया गया। याचिका में झूठा हलफनामा दाखिल करने के कारण सदस्यता रद्द करने की मांग की गई है। अब चुनाव याचिका पर 18 जुलाई को सुनवाई होगी। इस सुनवाई पर राजनीति में दिलचस्पी रखने वालों की नजर रहेगी कि आखिर क्या आता है अदालत का फैसला। उल्लेखनीय है शैलेन्द्र यादव ललई को 719 वोटो से हार का सामना करना पड़ा था।