संगम नगरी में जर्जर मकान गिरा 5 की दर्दनाक मौत, 9 गंभीर

प्रखर प्रयागराज। संगम नगरी प्रयागराज में हटिया चौराहे के पास एक जर्जर मकान भरभरा कर गिर गया, इस हादसे में 5 लोगों की मौत हो गई, जबकि आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए. सभी घायलों को एसआरएन अस्पताल में भर्ती कराया गया है. 2 की हालत नाजुक बताई जा रही है. सूचना पर पहुंची पुलिस टीम रेस्क्यू कर रही है. बताया जा रहा है कि मकान का बारजा गिरने से लोग मलबे के नीचे दब गए. जिससे उनकी मौत हो गई है. बताया जा रहा है कि मकान काफी पुराना था. तेज बारिश से बचने के लिए लोग उसके नीचे खड़े हो गए थे. घटना से पूरे इलाके में हड़कंप मचा हुआ है.पुलिस के साथ एसडीआरएफ की टीम भी राहत और बचाव कार्य में जुट गई है. घटना से पूरे इलाके में हड़कंप मचा हुआ है. जिले के कई थानों की पुलिस के साथ आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं. एंबुलेंस की कई गाड़ियां मौके पर पहुंच गई थी. रेस्क्यू का कार्य लगातार जारी रखते हुए सभी घायलों को अस्पताल भेजा गया जहां रास्ते में ही 5 लोगों की मौत हो गई.इसलिए मौत का आंकड़ा 5 से अधिक होने की भी संभावना जताई जा रही है. फिलहाल लगभग एक दर्जन लोग के मलबे में दबे होने की आशंका थी, जिन्हें रेस्क्यू कर अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.प्रयागराज हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई पांच हो गई है, हादसे में गंभीर रूप से घायल एक और व्यक्ति की हुई मौत हो गई है. घायल श्याम बाबू की अस्पताल में इलाज के दौरान हुई मौत. जर्जर इमारत का आगे का हिस्सा गिरने से 14 लोग चपेट में आए थे, इन 14 लोगों में से अब तक 5 लोगों की मौत हो चुकी है, हादसे में 9 लोग गंभीर रूप से घायल हैं.
जिस इमारत का आगे का हिस्सा गिरा हुआ है वह बिल्डिंग एक ट्रस्ट की है, इस बिल्डिंग में कई किराएदार रहते हैं. बिल्डिंग की हालत बेहद जर्जर है. हालांकि नगर निगम ने जर्जर इमारतों की जो सूची तैयार की है उसमें यह बिल्डिंग शामिल नहीं थी. शहरी क्षेत्र में नगर निगम से ने 170 जर्जर इमारतों की पहचान की है. इन बिल्डिंग्स में लोगों के रहने की वजह से नगर निगम कार्रवाई नहीं कर पा रहा है.इमारत के बीचों बीच एक बड़ा पेड़ था, पेड़ की डाल बिल्डिंग के अलग-अलग हिस्सों पर टिकी हुई थी. हादसे में सुशील कुमार गुप्ता, राजेंद्र पटेल, नीरज केसरवानी, नसीरुद्दीन उर्फ सलमान और श्याम बाबू की हुई है मौत. बिजली विभाग के कई कर्मचारी भी घायल हुए हैं।।