गंगा फिर 8 सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही कई घाटों का संपर्क टूटा

0
33

प्रखर वाराणसी। एक बार फिर गंगा बढ़ाव पर हैं। तीसरी बार जलस्तर बढ़ने से तटवासी चिंतित हैं। अभी आठ सेमी प्रतिघंटे बढ़ाव हो रहा है। रविवार को घाटों का संपर्क फिर टूट गया। रविवार को सुबह 8 से रात 8 बजे तक 73 सेमी पानी बढ़ा। विशेषज्ञों का कहना है कि सहायक नदियों चंबल, यमुना और घाघरा में उफान इसका कारण है। फाफामऊ से प्रयागराज, मिर्जापुर और बनारस तक गंगा उफान पर हैं। बांधों से पानी छोड़ने से जलस्तर में बढ़ोतरी हो रही है। रविवार को घाटों की कई सीढ़ियां डूब गईं। दशाश्वमेध से शीतला घाट का रास्ता भी जलमग्न हो गया। लाली घाट और हरिश्चंद्र घाट के बीच भी यही हाल रहा। हरिश्चंद्र घाट पर पानी चरण पादुका स्थल के आगे तक पहुंच गया है। मणिकर्णिका एवं हरिश्चंद्र घाट पर शवदाह प्रभावित हो रहा है।केंद्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के अनुसार 17 सितंबर को सुबह 8 बजे जलस्तर 63.64 मीटर था। रविवार सुबह 8 बजे जलस्तर 63.74 मीटर दर्ज किया गया। दोपहर 12 यह 4.5 सेमी प्रतिघंटे बढ़ते हुए 63.92 मीटर पहुंच गया। दोपहर 3 बजे जलस्तर पांच सेमी प्रतिघंटे बढ़ते हुए 64.07 मीटर पर पहुंच गया। शाम 6 बजे 8 सेमी प्रतिघंटे की रफ्तार से गंगा का जलस्तर 64.31 मीटर एवं रात 8 बजे तक 64.47 मीटर पर पहुंच गया। केंद्रीय जल आयोग के अनुसार जलस्तर में अभी बढ़ोतरी के संकेत हैं।