रेजॉइस हेल्थ फाउंडेशन द्वारा “मासिक धर्म, नही शर्म” मुहिम का आगाज़

0
52


प्रखर दिल्ली: साथ वर्षों से सामाजिक एवं स्वास्थ्य क्षेत्रों में कार्य कर रही देश की जानी मानी संस्था रेजॉइस हेल्थ फाउंडेशन एवं दक्षिण-पश्चिम दिल्ली जिला विधिक सेवाएं प्रधिकरण,शिक्षा निदेशालय दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के संयुक्त तत्त्वाधान में मासिक धर्म स्वच्छता का महत्व के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए “मासिक धर्म, नहीं शर्म” नामक मुहिम का दिल्ली नजफगढ़ स्तिथ राजकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय में आयोजन हुआ एवं सभी छात्राओं को 2000 से ज्यादा सैनिटरी नेपकिन पेड नि: शुल्क वितरण किये गए। गौरतलब है कि महिला सशक्तिकरण के लिए चलाई गई मुहिम “मासिक धर्म, नही शर्म” के पहले चरण का आयोजन उपरोक्त सरकारी एवं गैर-संस्थानों द्वारा दिल्ली के दक्षिण-पश्चिम जिले के 31 स्कूलों में होना तय हुआ है जिसमें 60000 सेनेटरी नेपकिन पेड वितरण किये जायेंगे। आयोजन के दौरान निःस्वार्थ भाव से स्वास्थ्य सेवाओं के लिए लम्बे समय से कार्य कर रही रेजॉइस हेल्थ फॉउंडेशन की संस्थापक अध्यक्ष डॉ प्रीति वर्मा ने विद्यालय की छात्राओं को महिला स्वास्थ्य, स्वच्छता, लैंगिक संदेनशीलता व सेनेटरी नेपकिन जो की महिला की प्रकृतिक जरूरत है के बारे में जागरूक किया। रेजॉइस हेल्थ फाउंडेशन के ग्लोबल अध्यक्ष डॉ नवल कुमार वर्मा ने मुख्य अतिथि के रूप में आई दक्षिण-पश्चिम दिल्ली जिला विधिक सेवाएं प्रधिकरण की सचिव एवं नयायधीश अनुराधा प्रसाद, विशिष्ठ अतिथि के तौर पे आये पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल राजीव भल्ला, शिक्षा निदेशालय दक्षिण-पश्चिम उप निदेशक अनिल कुमार, विद्यालय की प्रधानाचार्या का आभार व्यक्त करते हुए इस मुहिम को स्वच्छ भारत-स्वस्थ भारत की दिशा में बढ़ता हुआ कदम बताया साथ ही आह्वान किया कि “मासिक धर्म, नही शर्म” मुहिम के माध्यम से महिला स्वास्थ्य, लैंगिक संवेदनशीलता एवं महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देते हुए देश के कोने कोने तक पहुंचाना है, जिससे छात्राओं में जागरूकता बढ़ेगी और मिशन “मासिक धर्म, नही शर्म” को पूर्ण सफलता मिल पाएगी। इस अवसर पर कन्या विद्यालय नम्बरा 1, दिल्ली में रेजॉइस टीम से मेडिकल कंसलटेंट डॉ सनी कुमार, कुसुम, विकास मिश्रा, सुनीता एवं स्वयंसेवकों ने अपना अपना योगदान दिया।